सिंगर Honey Singh नहीं हुए पेश, कोर्ट ने मांगा आमदनी और इनकम टैक्स रिटर्न का ब्यौरा

अपनी याचिका में शालिनी सिंह ने कहा है कि हनी सिंह हनीमून के समय से ही उन्हें प्रताड़ित करते थे। याचिका में कहा गया है कि मॉरीशस में हनीमून के दौरान ही हनी सिंह के व्यवहार बदलने लगे थे।

नई दिल्ली: बॉलीवुड सिंगर हनी सिंह (Honey Singh) ऊर्फ हिरदेश सिंह आज अपने खिलाफ अपनी पत्नी शालिनी सिंह की ओर से घरेलू हिंसा अधिनियम के तहत केस दर्ज में सुनवाई के दौरान तीस हजारी कोर्ट में पेश नहीं हुए। उन्होंने अपने वकील के जरिेए आज कोर्ट में पेशी से छूट की मांग की। मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट तान्या सिंह ने हनी सिंह को पिछले तीन सालों की अपनी आमदनी से संबंधित विस्तृत हलफनामा और इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने का निर्देश दिया है।

तबीयत ख़राब होने का दिया हवाला

Honey Singh के वकील ने कहा कि उनकी तबीयत खराब है इसलिए वे कोर्ट में उपस्थित नहीं हो पाए हैं। उन्होंने आज कोर्ट में पेशी से छूट की मांग की। उन्होंने कहा कि सुनवाई की अगली तिथि को वे कोर्ट में पेश होंगे। उसके बाद कोर्ट ने हनी सिंह की मेडिकल रिपोर्ट और पिछले तीन सालों की आमदनी का विस्तृत ब्यौरा और इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने का निर्देश दिया है।

Honey Singh को आज होना था पेश

अपनी याचिका में शालिनी सिंह ने कहा है कि हनी सिंह हनीमून के समय से ही उन्हें प्रताड़ित करते थे। याचिका में कहा गया है कि मॉरीशस में हनीमून के दौरान ही हनी सिंह के व्यवहार बदलने लगे थे। याचिका के मुताबिक जब शालिनी ने हनी सिंह से उनके बदले व्यवहार के बारे में पूछा तो उसे बेड पर धक्का दे दिया और कहा कि जब हनी सिंह से सवाल पूछने की हिम्मत किसी की नहीं होती तो तुम भी मुझसे सवाल मत पूछना।

हनीमून के दौरान एक घटना के बारे में याचिका में कहा गया है कि हनी सिंह होटल के कमरे से बाहर चले गए और दस-बारह घंटे तक वापस नहीं आए। शालिनी के लिए वो जगह नई थी। जिसकी वजह से वो कमरे में ही रहीं और हनी सिंह का इंतजार करती रहीं। हनी सिंह उस दिन देर रात वापस लौटे तो नशे में थे।

पत्नी ने मुआवजे में की 10 करोड़ की मांग

शालिनी तलवार ने याचिका में हनी सिंह से दस करोड़ रुपये के मुआवजे की भी मांग की है। याचिका में दिल्ली में आवास की मांग की गई है और मासिक खर्च के रुप में पांच लाख रुपये हर महीने देने की मांग की गई है। मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट तान्या सिंह ने याचिका पर सुनवाई करते हुए हनी सिंह को नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने 28 अगस्त तक जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया।

यह भी पढ़ें: वाहनों के निर्बाध हस्तांतरण के लिए नया पंजीकरण चिह्न

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles