सिंगर कैलाश खेर ने किया ‘म्यूजिक माफिया’ पर बड़ा खुलासा, कही ये बात

मुंबई: बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद अलग अलग तरह के बॉलीवुड इंडस्ट्री से जुड़े मामले सामने आते ही रहते हैं। बॉलीवुड और म्यूजिक इंडस्ट्री में नेपोटिज्म के मुद्दे को लेकर बहस छिड़ी हुई है। सोनू निगम ने पहले ही कई बड़ी म्यूजिक कंपनियों पर निशाना साधा था और अब कैलाश खेर ने भी इस मुद्दे पर बड़ा बयान दिया है।

हाल ही में पल्लवी और विवेक द फ्यूचर ऑफ लाइफ फेस्टिवल चैट शो के लिए एक साथ आए। निर्देशक विवेक अग्निहोत्री और पल्लवी जोशी ने गायक कैलाश खेर के साथ अपना कार्यक्रम शुरू किया। कैलाश खेर से संगीत माफिया के बारे में कहा “यहां पर लोग अपमानित इसलिए करते हैं क्यूंकि उनको संगीत का ज्ञान कम होता हैं और इसी वजह से वह अपना रुतबा दिखाने के लिए किसी भी होनहार गायक को अपमानित करते हैं। कई बार मुझे भी अपमानित होना पड़ा है। इसके साथ ही उन्होंने कहा, हमारे देश में सच्ची प्रतिभा का शोषण होता है।

कैलाश ने करियर के दौरान आने वाली दिक्कतों के बारे में बताते हुए कहा, ‘करियर की शुरुआत में आप सबसे पहले एग्रीमेंट में फंसते हैं। म्यूजिक इंडस्ट्री के एजेंट जिन्हें सेलिब्रिटी मैनेजर के नाम से भी जाना जाता है, वे हर आर्टिस्ट से यह वादा करते हैं कि वे उन्हें ब्रेक दिलाएंगे, उन्हें गाने का मौका दिलाएंगे और आपके 4-5 साल इसी तरह बर्बाद हो जाते हैं। पल्लवी ने इस घटना को शेयर करते हुए बताया “कैलाश के गीत अल्लाह के बंदे को सुनकर मैं बहुत प्रभावित हुई। उसके बाद, मैंने विवेक अग्निहोत्री को उनकी फिल्म के लिए कैलाश खेर की सिफारिश की थी। ” बाद में, कैलाश ने विवेक अग्निहोत्री की चॉकलेट फिल्म के लिए एक गाना गाया।

विवेक ने कैलाश को यह भी बताया कि सुशांत को उनकी फिल्म, हेट स्टोरी के साथ बॉलीवुड में शुरुआत करनी थी, लेकिन एकता कपूर की बालाजी टेलीफिल्म्स ने उन्हें रिलीज नहीं किया। अब इस पर कैलाश ने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत की मृत्यु के रहस्य के बारे में वो सुशांत के बारे में सुनकर है। जो आदमी किसी को जीना सिखाता है, वह अपनी जान कैसे ले सकता है? संभव नहीं है। उन्होंने आगे कहा, “अब हमारे युवा जाग गए हैं और एक बार युवा जाग गए, तो वे देश को जगाएंगे।”

बताते चलें कैलाश ने म्यूजिक माफिया का मुद्दा उठाते हुए, उन पर एग्रीमेंट के जरिए नए कलाकारों के कई साल बर्बाद करने का आरोप भी लगाया। कैलाश ने बताया कि मैं तो अपना एल्बम बनाने के लिए मुंबई आया था। स्ट्रगल के बारे में बताते हुए कैलाश ने कहा, ‘कई बार ऐसा हुआ है कि हम कई म्यूजिक कंपनियों के पास गए और रिजेक्शन झेलना पड़ा। मैं एक कंपनी का नाम तो नहीं लूंगा लेकिन बताना चाहूंगा कि जब हम अपने गानों के साथ उस कंपनी में गए तो साफ-साफ कोई भी चीज नहीं बताई जाती थी।

Related Articles