सीतापुर: अवैध कब्ज़ा या कचरे का भंडार, जिला प्रशासन भी लोगों से हो गया परेशान

यह जो तस्वीर आप देख रहे हैं यह सीतापुर नगर पालिका के अंतर्गत हेमपुरवा मोहल्ले की है, आपको बता दे कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद मोदी जी के द्वारा स्वच्छ भारत अभियान चलाया गया था। जिसके अंतर्गत नगर पालिका के अधिकारी व कर्मचारी अपना काम बखूबी निभा रहे है, लेकिन कुछ मोहल्लेवासी ऐसे हैं जो अपनी हरकतों से बाज नहीं आते, नगर पालिका के कर्मचारी उन लोगों को हर रोज समझाते हैं लेकिन उनकी बातों का किसी पर कोई असर नहीं पड़ता है. कर्मचारी लोग अपना काम प्रातः और शाम को करने हर रोज आते है लेकिन जब वे अगली प्रातः अपना काम करने आते है तो उन्हें उसी जगह पर वही कचरा देखने को मिलता है जब कि उनका कहना यह कि नगर पालिका की तरफ से कुछ ही दुरी पर कचरा दान रखाया गया है जिसे रोज प्रातः नगर पालिका का वाहन आकर ले जाता है और उसी स्थान पर साफ़ कचरा दान रख जाता है उन्होंने लोगों से यह भी अपील की कि आप लोग कचरे को कचरा दान में न दाल कर किसी अन्य जगह या किसी के प्लाट में कचरे को डाल कर आप लोग स्वयं ही बीमारियों को घर में बुलाने का संकेत दे रहे हैं.

कचरे का भंडार

इस कचरे के भंडार से अब प्लाट का मालिक भी परेशान हो चूका है, जो की एक गरीब व्यक्ति है. जिसका कहना यह है  कि कई महीनो से मोहल्लेवासी मेरे प्लाट में कचरा दाल रहे हैं. उसने कोशिश कर अपने प्लाट में एक छोटी सी दिवार बनवाकर दरवाजा भी रखवा दिया था, लेकिन लोगों का कचरा डालना बंद नहीं हुआ. जिसके कारण दिवार भी गिर गयी।

आप तस्वीर मैं साफ-साफ देख सकते हैं कि किस तरह से जानवर आराम से बैठे है इसे कचरे को देख कर यह लगता है कि कोरोना व डेंगू जैसी बीमारियां लोगों तक बड़ी आसानी से पहुंच सकती हैं.

यह भी पढ़े: उत्तर प्रदेश: राम मंदिर निर्माण को लेकर चंपत राय का बड़ा बयान

Related Articles

Back to top button