पाकिस्तान की आंख में धूल झोंककर छह हिंदू परिवार लौटे भारत

पाकिस्तान की आंखो में धूल झोंककर छह हिन्दू परिवार हिंदुस्तान चले आए है। ये सभी वहां तीर्थ का बहाना बनाकर यहां आए है। मुजफ्फरनगर के मोरना में ग्राम शुक्रताल के पूर्व प्रधान नीरज रॉयल शास्त्री

मुजफ्फरनगर : पाकिस्तान की आंखो में धूल झोंककर छह हिन्दू परिवार हिंदुस्तान चले आए है। ये सभी वहां तीर्थ का बहाना बनाकर यहां आए है। मुजफ्फरनगर के मोरना में ग्राम शुक्रताल के पूर्व प्रधान नीरज रॉयल शास्त्री ने पाकिस्तान से आये हिन्दू परिवार को दिल्ली से लाकर रहने की जगह दी है इसी के साथ में खेती करने के लिए जमीन दी है। रहने के साथ खेती करने के दी गई जमीन से वे अपने परिवार के जीवन का गुजारा कर सकेंगे। भाजपा के कार्यकर्ताओं ने इन परिवार का स्वागत किया और हर तरह से इनकी मदद करने की बात कही है।

ये भी पढ़े : अमेरिका कट्टरपंथी इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में फ्रांस के साथ : ट्रंप

पूर्व प्रधान नीरज रॉयल शास्त्री ने बताया कि पाकिस्तान से कुछ हिंदू परिवार हिंदुस्तान आए हुए है इस बात की जानकारी लगते ही उनसे मिला और यहां आने की वजह पूछी तो उन्होंने बताया कि जुल्म के कारण पाकिस्तान को छोड़कर हिंदुस्तान में आना पड़ा हैं। पाकिस्तान से छह परिवार तीर्थ करने का बहाना बनाकर वहां से चुपके से निकल आए और हिंदुस्तान में आकर मेहनत मजदूरी करने को तैयार है। भाजपा के इन कार्यकर्ताओं ने नीरज रॉयल, सुनील चौधरी, राजेंद्र सिंह वीरपाल सहरावत सोनू कुमार, महक सिंह, सत्य कुमार, सोनवीर आदि लोग पाकिस्तान से आए लोगों को दिल्ली लेने पहुंचे और इनके लिए रहने व खाने की व्यवस्था कराई।

ये भी पढ़े : मां-भाई को याद कर रो रही बेटी को पिता ने हमेशा के लिए सुलाया मौत की नींद

5-5 बीघा जमीन खेती करने के लिए दी

इसके साथ ही परिवार का रोजाना मेहनत कर जीवन यापन करने के लिए 5-5 बीघा जमीन खेती करने के लिए दी गई। पूर्व प्रधान इसके साथ कहा कि हम भाजपा सरकार से मांग करते हैं कि पाकिस्तान में फंसे हुए इनके परिजनों को हिंदुस्तान में लाया जाए। भाजपा के नेता व कार्यकर्ताओं ने पाकिस्तन से आए हिंदुओं का फूल माला पहनाकर स्वागत किया। योगेश गुर्जर, जोगिंदर वर्मा, उत्तम कुमार, विनोद शर्मा, प्रदीप निर्वाल, जयकरण गुर्जर, नीटू सहरावत, कल्लू ठाकुर, महेंद्र चौहान, अरुण पाल, वीरपाल सहरावत आदि ने पाकिस्तान से आए हिन्दुओं का स्वागत किया।

 

 

Related Articles

Back to top button