स्मार्ट चार्जिंग संयंत्र से पूरा होगा देश का इलेक्ट्रिक वाहन अपनाने का लक्ष्य

0

नई दिल्ली। मौजूदा समय में देश की बड़ी समस्याओं की फेहरिस्त में ईधन का नाम भी शामिल है. कई बार वैज्ञानिक भी इस विषय में चिंता भी व्यक्त कर चुके है. देश को इस समस्या से राहत दिलाने के लिए बीड़ा टाटा कंपनी ने उठाय़ा है। कंपनी ने मुम्बई में इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज करने वाला पहला संयंत्र शुरू किया है. हमेशा देश हित मे काम करने वाली टाटा कंपनी का यह कदम हर मायने में फायदेमंद साबित हो सकता है।

 

क्या है कदम और क्या होंगे इसके फायदे

टाटा पावर देश में इलेक्ट्रिसिटी प्रोडक्शन, ट्रांसमिशन एंड डिस्ट्रीब्यूशन के लिए जानने जाने वाली कंपनी ने मुंबई के विखरोली में इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज करने वाला पहला संयंत्र शुरू किया है. कंपनी का उदेदेश्य है कि वह ऐसा नेटवर्क तैयार करे जिसकी मदद से आने वाले समय में लोगो को इलेक्ट्रानिक वाहन अपनाने मे मदद मिल सके।

कंपनी ने एक बयान जारी कर इस बात की सूचना दी कि इस तरह का स्मार्ट चार्जिंग संयंत्र देश को वर्ष 2030 तक पूरी तरह इलेक्ट्रिक वाहन अपनाने का लक्ष्य पाने में मदद करेगा.

कंपनी के मुख्य निदेशक अनिल सरदाना ने बताया कि वह कंपनी के इस सफलता को लेकर बहुत खुश है और अपने को बहुत गौरानवित महसूस कर रहे है और आने वाले समय में देश इस चीज को पूरी तरह से अपनाता है तो इससे अच्छा कंपनी के लिए कुछ भी नही होगा।

कंपनी द्वारा लिए गए इस कदम के बाद लोगों की काफी अच्छी प्रतिक्रियाए आ रही है लोगों ने इस काम के लिए टाटा ग्रप को शुभकामनाए भी दी है।

इस पूरी प्रक्रिया मे खर्च हुए पैसा का अभी कोई सही आकड़ा नही निकल पाया है लेकिन कंपनी ने जल्दी ही सारा ब्योरा जनता के सामने रखने की बात कही है ।

loading...
शेयर करें