जब ढाई लाख ने पढ़ा SMS ‘उन पर है 1090 की नजर’

1090

 

लखनऊ। शोहदों को सबक सिखाने का यह अलग प्रयोग कहा जा सकता है। वूमेन पावर लाइन पर दर्ज हुई शिकायतों में सामने आए ढाई लाख शोहदों को नए साल पर भी पुलिस नहीं भूली। उनको हिदायत के तौर पर एसएमएस भेजे गए। इसका भी रिकार्ड बन गया और दो दिन में नौ लाख 27 हजार शोहदों को कुछ इस तरह नए साल की बधाई दी गई। कई ने पलट कर 1090 पर फोन कर अब ऐसा न करने की कसमें भी खा डालीं तो कई ने कहा कि वह एक गलती थी। अभी शोहदों को एसएमएस भेजने का क्रम जारी है। शनिवार तक ढाई लाख से ज्यादा एसएमएस भेजे जा चुके थे।

आईजी नवनीत सिकेरा का यह एक अलग तरीका था। शोहदों को बधाई भी और नसीहत भी। दरअसल, 1090 पर तीन साल में दर्ज की गई शिकायतों में जिन शोहदों के नाम दर्ज हैं। उनमें से चिन्हित शोहदों के मोबाइल नंबरों पर नववर्ष की बधाई और चेतावनी के संदेश भेजे गए।

एसएमएस भेजा, वीमने पावर लाइन की उन पर नजर है

1090 से एसएमएस भेजा गया कि वीमेन पावर लाइन की उन पर नजर है। दोबारा शिकायत मिलने पर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज होगा और कार्रवाई की जाएगी।
छेड़छाड़ व महिला संबंधी अन्य अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए शोहदों को अहसास कराया जा रहा है कि उनके खिलाफ दर्ज शिकायत खत्म नहीं हुई बल्कि वीमेन पावर लाइन में उनका ब्यौरा हमेशा के लिए सुरक्षित हैं। उनकी ऐसी हरकतों पर उनकी नजर रहेगी।

कई ने फोन कर दी सफाई और भविष्य की दी दुहाई

दरअसल, वीमेन पॉवर लाइन की एक टीम शुक्रवार सुबह से शोहदों को एसएमएस भेजने में जुटी रही। कुछ लोगों ने 1090 का एसएमएस पढ़कर कॉल करके सफाई और अपने भविष्य की दुहाई तक दे डाली। कुछ ने यह भी कहा कि अब वह सुधर गए हैं और उनका नंबर वहां से डिलीट कर दिया जाए। वीमेन पॉवर लाइन 1090 पर तीन साल में पांच लाख से अधिक महिलाओं ने शिकायतें दर्ज कराई। इनमें शोहदों के 11 लाख फोन नंबर अंकित हैं। कई मामलों में शोहदों की काउंसिलिंग कर हिदायत दी गई थी। बाद में कई ऐसे मामले भी सामने आए कि हिदायत के बाद भी वह नहीं सुधरे। ऐसे एक हजार से ज्यादा शोहदों के खिलाफ फिर मुकदमा दर्ज कराया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button