कुछ लोग जिन्हें देशद्रोही समझते हैं, उन्हीं मुसलमानों ने बचाई अमरनाथ यात्रि‍यों की जान

0

जम्मू। रविवार को जम्मू-कश्मीर में एक बड़ा दुखद हादसा हो गया था। अमरनाथ यात्रा पर जा रही एक बस रामबन के पास खाई में गिर गई थी, जिसमें 17 श्रद्धालुओं की मौत हो गई जबकि 29 घायल हो गए थे। अमरनाथ यात्रि‍यों पर अभी पिछले हफ्ते हुए आतंकी हमले का दर्द भरा नहीं था कि ये हादसा हो गया। बता दें पिछले सोमवार को अमरनाथ यात्रियों हुए आतंकी हमले में 8 श्रद्धालुओं की मौत हुई थी। इन दोनों घटनाओं के बीच एक दिल खुश करने वाली खबर भी आई है। खबर के मुताबिक जब बस हादसे का शिकार हुई तो मदद के लिए घटनास्थल पर सैकड़ों मुस्लिम पहुंचे।

ये भी पढ़ें : आज से 11 अगस्त तक चलेगा मॉनसून सत्र, इन मुद्दों पर सरकार को घेरने को तैयार बैठा विपक्ष

मुसलमानों ने हादसे का शिकार हुए श्रद्धालुओं की मदद की

मुसलमानों ने हादसे का शिकार हुए श्रद्धालुओं की मदद की। इनता ही नहीं सैकड़ों मुसलमानों ने लगभग एक दर्जन तीर्थयात्रियों की जान बचाई। सांप्रदायिक सौहार्द और कश्मीरियत की भावना दिखाते हुए एक गैर सरकारी संगठन जिसमें ज्यादातर मुस्लिम स्वयंसेवक थे, घटनास्थल पर सबसे पहले पहुंचे। ये एनजीओ सड़क हादसे के पीड़ितों की मदद के लिए आगे आता है। हालांकि इस एनजीओं से जुड़े सदस्यों का कहना है कि उन्होंने बचाव कार्यों के लिए आवश्यक उपकरणों की मांग की है, जिसे अभी तक मंजूर नहीं किया गया है। वहीं, हादसों की बात करें तो बाबा अमरनाथ यात्रा को अभी 18 दिन ही बीते हैं, लेकिन इस बीच श्रद्धालुओं को चार बार सड़क हादसों का शिकार होना पड़ा है। इन हादसों में 19 श्रद्धालुओं की मौत हो चुकी है, जबकि 75 घायल हुए हैं।

ये भी पढ़ें : आगरा एक्सप्रेसवे भूल जाइये, अब देश का सबसे लंबा एक्सप्रेसवे बनाएंगे सीएम योगी

सड़क दुर्घटना की जांच कराने का आदेश दिया है

अधिकारियों के मुताबिक स्थानीय लोगों की मदद से पुलिस, सेना और सीआरपीएफ ने बचाव अभियान चलाकर शवों और घायल लोगों को नाले से बाहर निकाला। जेकेएसआरटीसी ने सड़क दुर्घटना की जांच कराने का आदेश दिया है। इसके प्रबंध निदेशक मीर अफरोज अहमद ने यह कहा था। रक्षा मंत्री अरुण जेटली, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और पीएम ने लोगों की मौत होने पर शोक प्रकट किया था।

loading...
शेयर करें