IPL
IPL

परमवीर चक्र विजेता वीर अब्दुल हमीद के बेटे की इलाज के दौरान मौत

परिवार वालों ने आरोप लगाया है कि अली हसन की स्थिति को देखते हुए पहले उनको ऑक्सीजन पर रखा गया था लेकिन फिर उनकी हालत को स्थिर बताते हुए ऑक्सीजन हटा लिया गया जिसके कारण उनकी मृत्यु हो गई।

नई दिल्ली: भारत और पाकिस्तान युद्ध में पाकिस्तान के खतरनाक पैटर्न टैंक तबाह करने वाले भारतीय सैनिक और परमवीर चक्र विजेता वीर अब्दुल हमीद के 61 साल के बेटे अली हसन की शुक्रवार को कानपुर के एक अस्पताल में इलाज में लापरवाही के कारण मौत हो गई। उनकी मौत के बाद परिवार वालों ने आरोप लगाया है कि अली हसन की स्थिति को देखते हुए पहले उनको ऑक्सीजन पर रखा गया था लेकिन फिर उनकी हालत को स्थिर बताते हुए ऑक्सीजन हटा लिया गया जिसके कारण उनकी मृत्यु हो गई।

अली हसन के परिवार वालों ने बताया कि जब हसन के बिगड़ते हालात के बारे में उन्होंने अस्पताल कर्मचारियों से ऑक्सीजन की सुविधा के लिए संपर्क किया तो उनकी किसी भी तरह की सुनवाई नहीं हुई और अली हसन की हालत बिगड़ने के कारण उनकी मृत्यु हो गई, अली हसन के परिवार ने यह भी आरोप लगाया है कि लाला लाजपत राय अस्पताल के अधिकारियों ने अली हसन की कोरोना जांच भी नहीं कराई थी, जिससे पता चल सकता कि वह कोरोना संक्रमित थे या नहीं। वही हसन के बेटे सलीम ने यह दावा किया है कि उनके पिता की मौत अस्पताल के डॉक्टर और कर्मचारियों की लापरवाही के कारण हुई है।

परमवीर चक्र विजेता वीर अब्दुल हमीद के पुत्र की मौत, परिजनों ने लगाया इलाज  में लापरवाही का आरोप - son of paramvir chakra winner veer abdul hameed dies  - UP Punjab Kesari

अली हसन परमवीर चक्र विजेता वीर अब्दुल हमीद के पुत्र हैं

हसन की बेटे सलीम ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि उनके पिता पिछले कई दिनों से बीमार थे उन्हें बुधवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया था और अस्पताल में भर्ती के बाद अली हसन को ऑक्सीजन पर रखा गया लेकिन महज 4 घंटे के बाद उनके स्वास्थ्य को स्थिर बताते हुए ऑक्सीजन की सुविधा हटा ली गई थी। और जब उनका स्वास्थ्य बिगड़ा तो अस्पताल के डॉक्टरों को यह भी बताया गया कि अली हसन परमवीर चक्र विजेता वीर अब्दुल हमीद के पुत्र हैं लेकिन उसके बाद भी कोई तवज्जो नहीं दी गई और उनकी मौत हो गई।

यह भी पढ़े: घर पर आइसोलेशन के दौरान कोरोना मरीज़ कर रहे हैं बड़ी गलतियां, बढ़ सकता है खतरा

Related Articles

Back to top button