मेरठ में फिरौती के लिए अपहृत किया गया ट्रांसपोर्टर का बेटा बरामद

उन्होंने बताया कि इस घटना को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक डा0 अखिलेश नारायण सिंह ने आसपास के क्षेत्र में लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले और अपहरणकर्ताओं की तलाश में लग गये.

मेरठ: उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने मेरठ पुलिस के साथ मिलकर एक ट्रांसपोर्टर के कथित अपहृत पुत्र को घटना के 18 घंटे के भीतर बरामद कर लिया.

पुलिस प्रवक्ता ने आज यह जानकारी देते हुए बताया कि शास्त्री नगर के सैक्टर 12 में हापुड़ में ट्रांसपोर्टर का काम करने वाले आसिफ के 15 वर्षीय पुत्र आरिफ का कल अज्ञात बदमाशों ने अपहरण कर लिया था. अपहरण का पता उस समय लगा जब बदमाशों ने आसिफ के मोबाइल पर उसके पुत्र की रिहाई के लिए 50 लाख रुपये की फिरौती का संदेश भेजा था.

उन्होंने बताया कि इस घटना को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक डा0 अखिलेश नारायण सिंह ने आसपास के क्षेत्र में लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले और अपहरणकर्ताओं की तलाश में लग गये. आसिफ की सकुशल बरामदगी के लिये पुलिस की कई टीमों का गठन करने के लिए एसटीएफ की मदद ली गई.

प्रवक्ता ने बताया कि अपहृत किशोर को बरामद करने के लिए एसटीएफ की विभिन्न टीमों को अभिसूचना संकलन एवं कार्रवाई के लिए निर्देशित किया गया था, जिसके क्रम में एसटीएफ मेेरठ के पुलिस अधीक्षक कुलदीप नारायण, पु के पर्यवेक्षण में पुलिस उपाधीक्षक मेरठ इकाई बृजेश कुमार सिंह के नेतृत्व में टीम गठित कर अभिसूचना संकलन की कार्यवाही प्रारम्भ की गयी तथा अभिसूचना तन्त्र को सक्रिय किया गया.

पूरा मामला

उन्होंने बताया कि एसटीएफ की टीम एवं स्थानीय पुलिस द्वारा अपहृत आरिफ को दिल्ली से 09 लाख 31 हजार रूपये सहित सकुशल बरामद कर लिया गया. पूछताछ में आरिफ ने बताया कि पहले उसके पिता की मृत्यु हो गई तो उसके माता ने आसिफ से दूसरी शादी कर ली थी. कुछ समय बाद उसकी माता की भी मृत्यु हो गई तो उसके सौतेले पिता ने दूसरी शादी कर ली. सौलते माता-पिता से इसके मधुर सम्बन्ध नहीं थे. सौतेली मां आरिफ को प्रताड़ित करती थी. प्रताड़ना से तंग आकर वह घर में रखे 09,31,000/-रूपये साथ लेकर दिल्ली चला गया था. यह अपनी दोनों सगी बहनों को भी अपने सौतेले माता-पिता के यहां से लेकर कहीं जाने वाला था कि तभी एसटीएफ व मेरठ की पुलिस की संयुक्त कार्यवाही के दौरान सकुशल बरामद कर लिया गया. इस सिलसिले में थाना नौचन्दी पर आवश्यक विधिक कार्रवाई की जा रही है.

यह भी पढ़े: प्याज की जमाखोरी रोकने के लिए योगी का मास्टर प्लान, तय होगी स्टॉक लिमिट

Related Articles

Back to top button