कुछ संगठनों ने आजादी के आंदोलन का किया विरोध और आज आजादी की बातें कर रहे

0

विपक्षियों पर आक्रामक दिखीं सोनिया

कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी ने कहाकि हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि उस दौर में ऐसे संगठन और ऐसे व्यक्ति भी थे, जिन्होंने आजादी के आंदोलन में कोई योगदान नहीं दिया. ऐसे संगठन आजादी के आंदोलन का विरोध करते थे, लेकिन आज आजादी की बात करते हैं।

सरकार को भी बनाया निशाना

सोनिया ने इसके आगे कहा कि मुझे लगता है कि जब हम भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं सालगिराह मना रहे हैं, तब देशवासियों के मन में कई आशंकाए हैं कि क्या अधंकार की शक्तियां तेजी से नहीं फैल रही हैं। सोनिया ने कहा कि ये आंदोलन हम सबको याद दिलाता है कि हम भारत के विचार को संप्रदायिक सोच का चेहरा नहीं बनने देंगे।

9 अगस्‍त 1942 को हुआ था भारत छोड़ो आंदोलन

9 अगस्त 1942 को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने अंग्रेजों के खिलाफ भारत छोड़ो आंदोलन की चिंगारी छेड़ी थी। भारत को अंग्रेजी हुकूमत से आजादी दिलाने में इस आंदोलन की अहम भूमिका मानी जाती है। मोदी सरकार ने आज संसद में भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं वर्षगांठ को खास तरीके से मनाने के लिए विशेष सत्र बुलाया था।

loading...
1
2
शेयर करें