इस रेस्टोरेंट से शुरू हुई थी सोनिया की दास्तान-ए-मोहब्बत, बच्चन परिवार में हुई थी शादी

सोनिया गाँधी किसान आंदोलन के सहयोग में नहीं मनायेंगी अपना 73वां जन्मदिन, बच्चन परिवार में हुई थी शादी

नई दिल्ली: भारत के सबसे बड़े राजनीतिक घराने की बहू और कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गाँधी का 73वां जन्मदिन है। सोनिया गांधी ने किसान आंदोलन के सहयोग में अपना जन्मदिन नहीं मनाने का फैसला लिया है। बच्चन परिवार में हुई थी शादी।

सोनिया गांधी का बचपन

सोनिया गांधी का जन्म इटली के विसेन्जा से 20 कि.मी. दूर स्थित एक छोटे से गाँव ‘लूसियाना’ में हुआ था। सोनिया के पिता का नाम ‘स्टेफिनो मायनो’ है जो एक फासीवादी सिपाही थे, जिनका निधन 1983 में हुआ था। उनकी माता का नाम पाओलो मायनों हैं। सोनिया गांधी की दो बहनें भी हैं। उनका बचपन इटली से 8 कि.मी. दूर स्थित ओर्बसानो में व्यतीत हुआ था।

सोनिया गांधी का पहला नाम

सोनिया गांधी का नाम पहले एन्टोनिया माईनो’ था जिसे भारत के छठे प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने विवाह होने के बाद ‘एन्टोनिया माईनो’ का नाम बदलकर “सोनिया गांधी” रख दिया था। सोनिया गांधी के पिता ‘स्टेफिनो मायनो’ आधुनिक सोच वाले थे। इसी कारण ही सोनिया गांधी को विदेश में पढ़ने की इजाजत मिल गई। सोनिया को ‘अंग्रेजी’ सीखनी थी जिसके लिए उन्होंने अपने पिता से इंग्लैंड जाने की इजाजत मांगी।

रेस्टोरेंट में शुरू हुआ रिश्ता

सोनिया गांधी ने कैंब्रिज के “लेंग्वेज कॉलेज” में दाखिला लिया। जहां पर उन्हें खाने की बहुत दिक्कत हुई। तो वो कैंब्रिज में ही एक ‘ग्रीक रेस्टोरेंट’ वार्सिटी में रोजाना नियमित रुप से वहां पर खाना खाने के लिए जाने लगीं। राजीव गांधी भी अक्सर ‘ग्रीक रेस्टोरेंट’ में आते थे और तभी एक दोस्त के जरिए सोनिया गांधी और राजीव गांधी की पहली मुलाकात हुई। कुछ दिनों में उनकी दोस्ती प्यार में बदल गई और दोनों ने 1968 में शादी कर ली। जिसके बाद वो भारत में ही रहने लगी। राजीव और सोनिया गांधी के दो बच्चे हुए, पुत्र राहुल गांधी और पुत्री प्रियंका गांधी।

बच्चन परिवार में शादी

सोनिया गांधी के पिता स्टेफिनो मायनो को राजीव और सोनिया का रिश्ता मंजूर नहीं था। वो अपनी बेटी को दूसरे देश में नहीं भेजना चाहते थे। उनको इस बात का डर था कि भारत के लोग सोनिया को कभी स्वीकार नहीं करेंगे। आखिकार बेटी के प्यार में पिता ने दोनों का रिश्ता मंजूर कर लिया और शादी के लिए राजी हो गए। शादी से पहले सोनिया गांधी को भारत आना था। उस वक्त इंदिरा गांधी प्रधानमंत्री थीं इसलिए बिना शादी के सोनिया को अपने घर में नहीं रख सकती थी। तब राजीव गांधी ने अपने सबसे अच्छे दोस्त ‘अमिताभ बच्चन’ के घर पर सोनिया के लिए रहने की व्यवस्था की। 13 जनवरी 1968 को सोनिया गांधी दिल्ली पहुंचीं गई और अमिताभ बच्चन के घर पर रहने लगीं। उसी दौरान बच्चन परिवार के घर पर ही सोनिया और राजीव गांधी की शादी हो गई।

यह भी पढ़ेविकेटकीपर पार्थिव पटेल ने क्रिकेट को कहा अलविदा, महज इतने साल की उम्र में किया था डेब्यू

यह भी पढ़ेबिहार में बंद का रहा मिला-जुला असर, सड़कों पर किसान कम, विपक्षी कार्यकर्ता दिखे अधिक

Related Articles