सोनी बीबीसी अर्थ (Sony BBC Earth) ने लॉन्च किया ‘यंग अर्थ चैंपियंस’

सोनी बीबीसी अर्थ ने भूमि पेडनेकर के सहयोग से लॉन्च किया ‘यंग अर्थ चैंपियंस’ (Young Earth Champions)

मुंबई: सोनी बीबीसी अर्थ बॉलीवुड स्टार और जलवायु कार्यकर्ता भूमि पेडनेकर के सहयोग से अपनी बौद्धिक संपदा ‘यंग अर्थ चैंपियंस’ (Young Earth Champions)  लॉन्च कर रहा है।

क्लाइमेट वॉरियर (Climate Warrior)

भूमि पेडनेकर अपनी अग्रणी पहल, क्लाइमेट वॉरियर (Climate Warrior) के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण का मजबूत अभियान चला रही हैं। सभी जलवायु-चैतन्य स्टूडेंट्स के लिए इस राष्ट्रव्यापी प्रतियोगिता के द्वारा सोनी बीबीसी अर्थ और भूमि पेडनेकर एक साथ मिलकर एक प्लैटफॉर्म प्रस्तुत कर रही हैं। जहां न केवल नवाचारी विचारों को समानित और पुरस्कृत किया जाएगा, बल्कि एक बेतार और अधिक संवहनीय भविष्य के विषय में सोचने के लिए भारत के युवाओं को प्रेरणा भी मिलेगी।

बच्चों को प्रोत्साहित

संरक्षण के प्रति बचपन से ही उत्प्रेरक बनने के लिए बच्चों को प्रोत्साहित करने के इरादे के साथ यह प्रतियोगिता 5वीं से लेकर 9वीं कक्षा के बच्चों के लिए है। इन बच्चों को हमारे शहरों और समुदायों को पहले से अधिक संवहनीय बनाने वाले सबसे नवोन्मेषी विचारों के लिए प्रविष्टियाँ भेजनी होंगी। एक विशेषज्ञ के साथ मिलकर भूमि पेडनेकर इस अभियान का निर्णय और एक भाग्यशाली “यंग अर्थ चैंपियन” का चयन करेंगी, जिसे इस चैनल पर दिखाया जाएगा। इतना ही नहीं, टॉप-10 विजेताओं को भूमि पेडनेकर के साथ वर्चुअल मुलाक़ात और पृथ्वी के संरक्षण तथा इसके साथ सह-अस्तित्व के बारे में अपनी भूमिका पर उत्साहवर्धक बातचीत करने का अवसर मिलेगा।

जलवायु परिवर्तन

भूमि पेडनेकर ने कहा कि, “जलवायु परिवर्तन की तलवार हम पर लटक रही है और यह एक वास्तविक ख़तरा है। क्लाइमेट वॉरियर की अपने पहल के माध्यम से मैं इस संकट की गंभीरता और इसके नतीजों को उजागर करने का कर्मठतापूर्वक प्रयास कर रही हूँ। मुझे प्रसन्नता है कि सोनी बीबीसी अर्थ भी ऐसी ही सोच रखता है और ‘यंग अर्थ चैंपियंस’ के द्वारा बदलाव के वाहक बनने की शक्ति से लैस बच्चों के बीच रचनात्मक विचारों के आदान-प्रदान आरम्भ करने के लिए एक शानदार मंच मुहैया कर रहा है। मुझे संवहनीय भविष्य के विषय में अतुलनीय, युवा प्रतिभाओं की उत्साहवर्द्धक भागीदारी और विचारोत्तेजक बहस की आशा है।”

यह भी पढ़ेट्रम्प (Trump) ने पेंस पर मीडिया रिपोर्ट का किया खंडन

यह भी पढ़ेबस्ती (Basti) मे 42 हजार 8 सौ 75 श्रमिको को उनके ही गांव मे रोजगार

Related Articles

Back to top button