एसपी ‘अरविंद चतुर्वेदी’ की पहल, शराब बेचने वाली महिलाएं अब करती हैं घरों को रोशन

एसपी 'अरविंद चतुर्वेदी' की पहल, शराब बेचने वाली महिलाएं अब करती हैं घरों को रोशन

बाराबंकी: दृढ़ संकल्प और काम करने का जज्बा हो तो कोई ऐसा काम नहीं है जिसे किया नहीं जा सकता है, बाराबंकी के एक गांव में कभी ‘शराब’ बनाकर बेचने वाली वाली महिलाएं अब मोमबत्ती एवं दीये बनाकर घरों को रोशन कर रही हैं।

गांव में दीये बनाने का काम

बाराबंकी जिले के पुलिस अधीक्षक  ने बताया कि जो महिलाएं कभी “कच्ची शराब” बनाकर अपना जीवन यापन करती थी । वह अब मोमबत्तियां और दीये बनाकर घरों को तो रोशन कर ही रही हैं और प्रतिदिन करीब कम से कम 600 रुपये भी कमा रही हैं। गांव भी वही है और महिलाएं भी वहीं हैं, हर घर के बाहर जहां पहले शराब की भट्टियां जलती थी, लेकिन अब इन भट्टियों पर कच्ची शराब नहीं बल्कि मोम को पिघला कर मोमबत्तियां बना रही हैं।

कच्ची शराब बनाने और बेचने का काम

उत्तर प्रदेश की राजधानी से सटे बाराबंकी जिले का चैनपुरवा गांव की महिलाएं जहां एक अरसे से कच्ची शराब बनाने और बेचने का काम करती आ रही थीं, लेकिन अब इस गांव में सब कुछ बदल चुका है और यह सब बदलाव जिले के पुलिस अधीक्षक डॉक्टर अरविंद चतुर्वेदी की पहल से साकार हुआ है।

गांव में सकारात्मक पहल

सिर्फ एक सकारात्मक पहल से गांव के लोग अब न ही सिर्फ कच्ची शराब बनाने का काम छोड़ चुके हैं, बल्कि दीये और मोमबत्ती बना रहे हैं। यह काम मिलने से ये महिलाएं आज अच्छा पैसा भी कमा रही हैं।

गांव में मोमबत्ती बनाने की पहल

बाराबंकी के रामनगर क्षेत्र में आने वाला चैनपुरवा गांव की महिलाओं का कहना है कि हमारे गांव में बाहर के आदमी कच्ची दारू लेने आते थे, कुछ दिन पहले एसपी साहब ने गांव में चौपाल लगाई थी और वहां हम सब को बुलवाया और पूछा था कि क्या आप सब लोग कच्ची शराब बनाने का काम करती हैं,“ हम लोगों ने सही-सही कहा कि हां हम शराब बनाते हैं साहब, कोई काम रोजगार नहीं है तो घर का खर्चा कैसे चले तो एसपी साहब ने हम लोगों को मोमबत्ती बनाने की सलाह दी और फिर धीरे-धीरे करके आज पूरे गांव की महिलाएं-बच्चे सब मोमबत्ती बना रहे हैं।,”

पुलिस अधीक्षक की पहल

पुलिस अधीक्षक की पहल पर चैनपुरवा गांव की ये महिलाएं अब काफी खुश हैं। महिलाओं का कहना है जब वह कच्ची शराब बनाती तो पुलिस के छापे का भनक लगते ही वह गांव से भाग जाती थी, लेकिन आज पुलिस को देख कर खुश हो जाती हैं।

शाम होते ही गांव में शराबी

इसी गांव की महिला वीरमति बताती हैं, “अक्सर हमारे यहां सुबह शाम शराबी आते थे और दारू पीकर गाली-गलौज करते थे। पुलिस को देख कर हम सब भाग जाते थे, खेतों में लेटे रहते थे ,लेकिन आज वही पुलिस जब गांव में आती हैं तो ऐसा लगता है जैसे कोई अपना आया है।,”

ग्रामीणों को आत्मनिर्भर बनाने की पहल

चैनपुरवा गांव में पुलिस अधीक्षक डॉ0 अरविंद चतुर्वेदी ने करीब डेढ़ माह पहले चैनपुरवा गांव को कच्ची शराब मुक्त बनाने के साथ ही यहां की महिलाओं को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने की पहल शुरू की थी। गांव की 25 महिलाओं को जोड़ कर पांच समूह बनाए।

कैंडल दीया बनाने की ट्रेनिंग

इसके बाद इन महिलाओं को बीवैक्स, मिट्टी के दीया, धागा जैसी सामग्री न/न सिर्फ उपलब्ध कराई, बल्कि दीपावली पर मोमबत्ती का अच्छा व्यापार देख ‘कैंडल दीया’ बनाने की ट्रेनिंग भी दी है। ‘कैंडल दीया’ तैयार कर रहीं इन महिलाओं को एक रुपये प्रति दीया कमाई भी कर पा रही हैं।

मोमबत्ती और दीयों का मूल्य

गांव में सभी महिलाओं के दीयों का हिसाब-किताब रखने वाली सुधा बताती हैं, “हम सभी को दीया मोमबत्ती सब कुछ पहुंचाते हैं, अभी एक महिला दिन भर में करीब ‘कैंडल दीया’ बना लेती है, एक मोमबत्ती पर एक रुपए के हिसाब से दिन भर में 600 रुपये का काम कर लेती है। जिला प्रशासन ने इन महिलाओं को अपना उत्पादन बेचने के लिए जिले में नगर पार्षद की दुकान का भी आवंटन की है, जिसमें यह अपना सामान बेच सकेगी।

यह भी पढ़े:हिटमैन रोहित शर्मा का ऑस्ट्रेलियाई दौरा, फिटनेस पर टिकी बीसीसीआई की निगाहें

यह भी पढ़े:गोल्डमैन सैक्स ने बायोकॉन बायोलॉजिक्स में किया ‘ $ 150 मिलियन’ का निवेश

Related Articles

Back to top button