सपा-बसपा कार्यकर्ताओं के बिच कानपुर में मंच पर बैठने को लेकर तीखी बहस

0

नई दिल्ली: इन दिनों सपा बसपा गाठबंधन सिर्फ उत्तर प्रदेश में नही बल्कि पुरे देश में चर्चा का विषय है। ऐसे में कई बार दोनों के बिच में छोटी मोटी खट्टी मीठी बहस  आम बात है पर ये बहस खी दोनों पार्टी के मन मुटाव की वजह न बन जाये| भाजपा को हाराने के लिए उत्तरप्रेदश में सपा-बसपा के बीच हुई गठबंधन में  मंगलवार को कानपुर में दरार देखने को मिली और यह दरार पार्टी मुखिया माया और अखिलेश के बीच नहीं बल्कि जिस जमीनी कार्यकर्ताओं के दम पर दोनों अपने जीत का दावा कर रहे है उनके बीच की है ।

मामला कानपुर के अकबरपुर-रनिया का है जहा बसपा ने दोनों दल के कार्यकर्ताओं को आपसी तालमेल बैठाने और जान पहचान के लिए संयुक्त कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया।लेकिन यहां मंच पर बैठने को लेकर महौल गर्मा गया,और दोनों दल के कार्यकर्ताओं में जमकर बहस हुई।

सम्मेलन में सपा नगर अध्यक्ष और अपने समर्थकों के साथ पहले ही मंच पर पहुंच गए और कुर्सियों पर कब्जा जमा लिया,इसके बाद जब बसपा जिलाध्यक्ष रामशंकर समेत बसपा नेता कार्यकर्ता पंहुचे तो उन्हें मंच पर एक भी कुर्सी बैठने को नहीं मिली।जिसके बाद मामला गर्म हो गया और दोनों दलों में बहस होने लगा।

मामला गर्म होते देख सपा और बसपा के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने बीच-बचाव करते हुए मामले को शांत किया फिर सपा कार्तकर्ताओं ने बसपा के लिए मंच पर तीन सीट छोड़ दिया।जिसके बाद सपा-बसपा कार्यकर्ता सम्मेलन को आगे बढ़ाया गया।गौरतलब है कि सपा मुखिया अखिलेश यादव और बसपा प्रमुख मायावती लगातार अपने कार्यकर्ताओं को आपसी गठजोड़ बनाए रखने का अपील करते रहते है।

 

loading...
शेयर करें