हाइपरसोनिक मिसाइल नहीं, space vehicle का किया था टेस्ट : चीन

बीजिंग : चीन ने कहा है कि उसने जुलाई में मिसाइल का नहीं बल्कि एक space vehicle का टेस्ट किया था। इस कड़ी में चीन की फॉरेन मिनिस्ट्री ने सोमवार को कहा कि फाइनेंशियल टाइम्स की यह रिपोर्ट गलत है कि चीन ने सुपरसॉनिक मिसाइल का टेस्ट किया था। मिनिस्ट्री के प्रवक्ता झाओ लिजिआन ने बताया कि असल में स्पेस व्हीकल का टेस्ट हुआ था।

space vehicle पर किया गया फाइनेंशियल टाइम्स का दावा गलत : चीन

इस कड़ी में आपको बता दें मीडिया रिपोर्ट में कहा गया था कि चीन ने परमाणु क्षमता वाली हायपरसॉनिक मिसाइल का पहला टेस्ट किया है। रिपोर्ट के मुताबिक यह हथियार आवाज की गति के कई गुणा पर उड़ सकते हैं और उड़ान के दौरान इनका रास्ता भी बदला जा सकता है। इससे इन्हें ट्रैक करना मुश्किल होता है। रिपोर्ट में यह भी बताया गया था कि मिसाइल स्पेस में कम ऊंचाई पर उड़ान भरने के बाद अपने निशाने से टकराई थी। हालांकि, यह निशाना चूक गई थी।

इस कड़ी में एक्सपर्ट्स का कहना है कि चीन के इस टेक्नोलॉजी को पूरी तरह डिवेलप करने से अमेरिका और जापान के मिसाइल सिस्टम्स पर असर पड़ेगा।

यह भी पढ़ें : किसानों की हत्या को लेकर किसान संगठन नाराज, यूपी में ‘रेल रोको’ का विरोध आज

Related Articles