अमित शाह के बोल – बीजेपी की दोबारा सरकार बनी तो 25 साल तक ना बुआ दिखेगी और ना ही भतीजा

0

लखनऊ: देश में लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी की अगुवाई में ‘मजबूत सरकार’ बनाने का आह्वान करते हुए पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने बुधवार को कहा कि एक बार फिर यहां बीजेपी की सरकार बनती है तो अगले 25 साल तक ‘‘बुआ-भतीजा’’ दिखाई नहीं देंगे.इसके साथ ही बीजेपी अध्यक्ष ने लोगों से ‘मजबूत अथवा मजबूर’ सरकार में से किसी एक को चुनने की लोगों से अपील की.उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ और कानपुर के भारतीय जनता पार्टी के बूथ अध्यक्षों के सम्मेलन में हिस्सा लेने शाह यहां आये थे.बीजेपी के बूथ अध्यक्षों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव के बाद देश में ‘मजबूत सरकार बने या मजबूर सरकार’ इसका चुनाव आपको करना है.

बीजेपी नेता ने कहा, ‘‘हम चाहते हैं कि मोदी जी के नेतृत्व में एक मजबूत सरकार बने. विपक्षी दल चाहते हैं कि सरकार मजबूर हो. आप एक बार फिर यहां बीजेपी की सरकार बना दो तो यहां 25 साल तक ना तो बुआ दिखेगी और ना ही भतीजा दिखेगा.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं कार्यकर्ताओं का आह्वान करता हूं कि यह लड़ाई देश के लिये महत्वपूर्ण है.यह लड़ाई जीतना बीजेपी के साथ-साथ भारत के लिये भी जरूरी है. हमारा कार्यकर्ता 50 प्रतिशत वोटों की लड़ाई जीतकर ही आएगा. सीटों की संख्या ऐसी हो कि विरोधियों के दिल दहल जाएं.’’

गठबंधन करने वालों के फोर बी हैं – बुआ, भतीजा, भाई और बहन

शाह ने तंज किया ‘‘बीजेपी के फोर बी हैं-बढ़ता भारत, बनता भारत. जो गठबंधन करने चले हैं उनके फोर बी हैं – बुआ, भतीजा, भाई और बहन. उनको लीडर चलाए, ऐसी सरकार नहीं चाहिये. उनको डीलर या दलाल चलाए, ऐसी सरकार चाहिये. इन लोगों की सरकार देश को आगे नहीं ले जा सकती.’’ सम्मेलन में विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा, ‘‘विपक्ष बताए कि उसका प्रधानमंत्री पद का प्रत्याशी कौन है. अगर गठबंधन की सरकार बनी तो सोमवार को मायावती, मंगलवार को अखिलेश यादव, बुधवार को ममता, गुरुवार को शरद पवार, शुक्रवार को देवगौड़ा प्रधानमंत्री बनेंगे. शनिवार को स्टालिन बन जाएंगे और रविवार को देश छुट्टी पर चला जाएगा.’’

शाह ने सवाल किया, ‘‘बुआ भतीजे के बीच इतना प्यार कहां से उमड़ आया. यह कार्यकर्ताओं का डर है कि यह एकजुट हो गये हैं. यह बीजेपी की शक्ति का परिचायक है कि सपा-बसपा इकट्ठा हैं. यह गठबंधन सिद्धांतों का नहीं बल्कि जातिवाद, भ्रष्टाचार, अपराधीकरण का गठबंधन है और प्रदेश को पीछे करने के लिये कानून-व्यवस्था बिगाड़ने का गठबंधन है.’’उन्होंने कहा, ‘‘बीजेपी की बढ़ती लोकप्रियता को और मोदी के बढ़ते राजनीतिक प्रचार प्रसार को रोकने के लिये एक गठबंधन हुआ. यह गठबंधन जातिवाद, स्वार्थ और भ्रष्टाचार का गठबंधन है. मगर हमारे कार्यकर्ता भारत माता के जयकारे के साथ गठबंधन करने वालों को जमीन पर लाने को तैयार हैं.’’

loading...
शेयर करें