श्रीनगर-लेह हाईवे 4 दिन बाद खुला, बर्फ हटाने के बाद सड़क मार्ग बहाल

जम्मू से श्रीनगर के ओर यात्री वाहनों को वाहनों को आने की अनुमति दी गयी है। वाहनों को सुबह पांच बजे से 11 बजे के बीच जम्मू के नगरोटा को और सुबह छह बजे से 1200 बजे के बीच जाखनी उधमपुर को पार करना होगा।

श्रीनगर: केन्द्रशासित प्रदेश लद्दाख से कश्मीर घाटी को जोड़ने वाले हाईवे को पिछले चार दिनों से बर्फ और हाईवे में फिसलन होने के कारण बंद रखा गया था जिसे बुधवार को वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया गया।

एक यातायात पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस बीच 270 किलोमीटर लम्बे श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग और 86 किलोमीटर लम्बे ऐतिहासिक मुगल रोड को जो दक्षिण कश्मीर के शोपियां को जम्मू क्षेत्र में राजौरी और पुंछ से जोड़ता है, उसे भी यातायात के लिए खोला गया है।

शनिवार को यातायात सेवा बंद की गई थी 

उन्होंने कहा कि 270 किलोमीटर लंबे श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात को सोनमर्ग, जोजिला दर्रा, मीनमर्ग और द्रास में शनिवार को यातायात सेवा बंद कर दी गयी थी। सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) ने हालांकि अत्याधुनिक मशीन और मजदूरों को लगाकर बर्फ हटाने के बाद रविवार को सोनमर्ग तक सड़क मार्ग खोल दिया था।

हिमपात के कारण सर्दियों में बंद हो जाता लद्दाख क्षेत्र का हिस्सा

उन्होंने कहा कि मौसम में सुधार आने के बाद भी बर्फ हटाने का काम जारी रहा और राजमार्ग को वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया गया। जोजिला दर्रे की ओर से आने वाले किसी भी वाहन को जाने की अनुमति नहीं होगी। उन्होंने कहा कि अधिकारियों ने लद्दाख क्षेत्र के विभिन्न हिस्सों में आवश्यक भंडारण के लिए सड़क को दिसंबर के अंत तक खुला रखने का फैसला किया है, जो भारी हिमपात के कारण सर्दियों के दौरान बंद हो जाता है।

उन्होंने कहा कि जम्मू से श्रीनगर के ओर यात्री वाहनों को वाहनों को आने की अनुमति दी गयी है। वाहनों को सुबह पांच बजे से 11 बजे के बीच जम्मू के नगरोटा को और सुबह छह बजे से 1200 बजे के बीच जाखनी उधमपुर को पार करना होगा। समय समाप्ति के बाद वाहनों को जाने की अनुमति नहीं होगी। कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए यात्रियों को सरकार द्वारा जारी मानक संचालन प्रक्रिया का पालन करने की सलाह दी गयी है।

ये भी पढ़ें : राजधानी में कोरोना के बढ़ते केसों पर लगाम लगाने के लिए हरकत में आई केंद्र सरकार

Related Articles

Back to top button