स्टालिन को मिली द्रमुक की कमान, 49 साल बाद पार्टी को मिला नया अध्यक्ष

0

चेन्नई: एम.के. स्टालिन को मंगलवार को द्रमुक (द्रविड़ मुनेत्र कड़गम) का निर्विरोध अध्यक्ष चुन लिया गया। पार्टी के संस्थापक सीएन अन्नादुरई और पूर्व मुख्यमंत्री एम. करुणानिधि के बाद वह पार्टी के तीसरे अध्यक्ष बने। यह पद उनके पिता व पांच बार तमिलनाडु के मुख्यमंत्री रहे एम.करुणानिधि के निधन से खाली हुआ था। उनके दिवंगत पिता एम.करुणानिधि पार्टी के अध्यक्ष के पद पर 49 सालों तक काबिज रहे। द्रमुक के महासचिव के.अंबाझगन ने कहा कि पार्टी के 1,307 अधिकारियों ने स्टालिन की उम्मीदवारी का समर्थन किया। वरिष्ठ नेता दुराईमुरुगन को निर्विरोध पार्टी का कोषाध्यक्ष चुना गया।

करुणानिधि 1969 से द्रमुक के मुखिया थे। 7 अगस्त 2018 को उनका निधन हो गया था। जिसके बाद स्टालिन और उनके बड़े भाई अलागिरी में पार्टी कमान को लेकर टकराव की खबरें आई थीं। पार्टी से बर्खास्त अलागिरी ने दावा किया था कि मेरे पिता के प्रति निष्ठा रखने वाले पार्टी के सभी लोग मेरे साथ हैं। स्टालिन और अलागिरी दोनों ही करुणानिधि की पहली पत्नी दयालु अम्माल के बेटे हैं।

जनरल काउंसिल ने इसकी घोषणा करने से पहले करुणानिधि, पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी, संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव कोफी अन्नान व करुणानिधि के निधन की खबर से सदमे में आकर मरे पार्टी के कार्यकर्ताओं व स्टेरेलाइट कॉपर स्मेलटर प्लांट के विरोध के दौरान मारे गए प्रदर्शनकारियों के निधन पर पर शोक व्यक्त किया।

loading...
शेयर करें