मालदीव में इमरजेंसी : पूर्व राष्ट्रपति और चीफ जस्टिस गिरफ्तार

0

माले| मालदीव पुलिस ने देश के सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों और पूर्व राष्ट्रपति मौमून अब्दुल गयूम को गिरफ़्तार कर लिया है। यह गिरफ्तारी मालदीव में राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने इमरजेंसी का एलान करने के बाद हुयी। इन गिरफ्तारियों के बाद जिसके बाद देश में राजनीतिक संकट बढ़ गया है।

पूर्व राष्ट्रपति मौमून अब्दुल गयूम पर आरोप है कि वो राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन को पद से हटाए जाने के लिए अभियान चला रहे थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रधान न्यायाधीश अब्दुल्ला सईद और एक अन्य न्यायाधीश अली हमीद को सरकार द्वारा आपातकाल के ऐलान के बाद उनके आवासों से गिरफ्तार कर लिया।

इस संबंध में जांच और आरोपों को लेकर कोई जानकारी नहीं दी गई। मालदीव में यह राजनीतिक संकट उस समय उत्पन्न हुआ, जब देश के सर्वोच्च न्यायालय ने जेल में बंद विपक्षी नेताओं को रिहा करने का आदेश दिया, जिसे राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने मानने से इनकार कर दिया।

विपक्ष ने सरकार के इस कदम की निंदा की है। मालदीव सरकार के इस कदम को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है।

गौरतलब है कि पिछले सप्ताह सर्वोच्च न्यायालय ने कुछ विपक्षी नेताओं की रिहाई के आदेश दिए थे। न्यायालय ने अपने आदेश में देश के पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद पर 2015 में शुरू किए गए मुकदमे को असंवैधानिक भी बताया था। फिलहाल, नशीद निर्वासित जीवन व्यतीत कर रहे हैं।

वहीँ इमरजेंसी घोषित होने के बाद भारत सरकार ने अपने नागरिकों को मालदीव की गैर-जरूरी यात्रा नहीं करने की सलाह देते हुए सर्कुलर जारी किया है। वहीँ वहां रह रहे भारतीयों को सतर्क रहने को कहा गया है।

loading...
शेयर करें