जेल में रहकर भी वाराणसी से चुनाव लड़ सकते हैं अतीक अहमदः शाइस्ता परवीन

लखनऊ: बाहुबली नेता और फूलपुर से सांसद रहे अतीक अहमद को यदि अदालत पैरोल पर रिहा नहीं करती है तो वह जेल में रहते हुए वाराणसी से चुनाव लड़ने पर विचार कर सकते हैं। अहमद की पैरोल की अर्जी पर सोमवार को सुनवाई होगी। पूर्व सांसद की पत्नी शाइस्ता परवीन ने रविवार को यहां संवाददाताओं को बताया, कल (शनिवार) मैं नैनी केंद्रीय कारागार में अतीक अहमद से मिलने गई थी और उन्होंने वाराणसी से चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की।


उन्होंने बताया कि सभी पार्टी के प्रत्याशियों को देखने के बाद ऐसे प्रतीत होता है कि सारी पार्टियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को वाक ओवर दे दिया है। यदि सपा, बसपा गठबंधन, कांग्रेस ईमानदारी से भाजपा के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी को कड़ी चुनौती देना चाहते हैं तो क्यों न सारी पार्टियां अतीक अहमद का समर्थन करें।

परवीन ने बताया कि उनके पति ने चुनाव के प्रचार के लिए तीन सप्ताह की सशर्त जमानत पर रिहाई की अर्जी न्यायालय में दी है जिस पर 29 अप्रैल को निर्णय होगा। मैंने अपने पति अतीक अहमद से गुजारिश की है कि किन्ही कारणों से अगर जमानत मिलने में दिक्कत हो तो वह जेल में रहकर चुनाव लड़ने पर पुनर्विचार करें।

Related Articles