EPFO-NSIC से संबंधित उठाए जा रहे हैं कदम, दूर होंगी सभी चिंताएं

केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष कुमार गंगवार ने कहा है कि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO), कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ESIC) और दूसरी इकाइयों से जुड़ी चिंताओं के निदान के लिए प्रक्रियाओं एवं नीतियों को व्यवस्थित किया जा रहा है।
लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में गंगवार ने यह जानकारी साझा की। इस संदर्भ में उन्होंने कहा कि साल 2019 में ईपीएफ से संबंधित 9,02,203 शिकायतें मिलीं और इनमें से 8,38,579 शिकायतों का निस्तारण किया गया था।
बता दें कि अबतक मुख्य रूप से बैंक और अन्य वित्तीय संस्थान ही अपने ग्राहकों को ओटीपी, डेबिट या क्रेडिट कार्ड और अन्य व्यक्तिगत विवरणों को किसी के साथ साझा नहीं करने की चेतावनी दे रहे थे। क्योंकि कई शातिर हैकर्स बैंक कर्मचारियों के रूप में फोन कर ग्राहकों से धोखाधड़ी करने में लगे थे। लेकिन EPFO भी अपने सदस्यों को इसी तरह की चेतावनी जारी कर चुका है।
नवंबर, 2019 में नई नौकरियों की संख्या बढ़कर 14.33 लाख हो गई थी, जबकि अक्तूबर में यह 12.60 लाख रही थीं। ईएसआईसी के आंकड़ों में ये बातें सामने आई थीं। सितंबर, 2017 से नवंबर, 2019 के दौरान ईएसआईसी योजना से 3.37 करोड़ नए सदस्य जुड़े।

रिपोर्ट बताती है कि सितंबर, 2017- मार्च, 2018 के बीच ईएसआईसी में कुल 83.35 लाख नए नामांकन हुए। वहीं ईपीएफओ में नवंबर, 2019 में रिकॉर्ड 11.62 लाख नए नामांकन हुए, जबकि अक्तूबर में यह आंकड़ा 6.47 लाख रहा था। 2018-19 में ईपीएफओ द्वारा चलाई जा रही सामाजिक सुरक्षा योजनाओं से कुल 61.12 लाख नए सदस्य जुड़े। इसी प्रकार सितबर, 2017-मार्च, 2018 के दौरान 15.52 लाख नए नामांकन हुए। सितबर, 2017-नवंबर, 2019 के बीच के ताजा आंकड़ों से पता चलता है कि इस दौरान ईपीएफ योजना से 3.03 करोड़ नए सदस्य जुड़े।

Related Articles