सीतापुर में भाजपा विधायक पर हुए पथराव, जानिए वजह

यूपी के सीतापुर में लखीमपुर खीरी के निघासन के भाजपा विधायक सशांक वर्मा शनिवार की देर रात नैमिषारण्य गए थे तो वहां के स्थानीय लोगों ने कब्जेदारी को लेकर उन पर पथराव करना शुरु कर दिया।

सीतापुर: यूपी के सीतापुर में लखीमपुर खीरी के निघासन के भाजपा विधायक सशांक वर्मा शनिवार की देर रात नैमिषारण्य गए थे तो वहां के स्थानीय लोगों ने कब्जेदारी को लेकर उन पर पथराव करना शुरु कर दिया।

विधायक के गनर ने उनको बचाते हुए इस घटना की खबर पुलिस को दी। कुछ ही पलो में पुलिस मौके पर पहुंच गई जिसके बाद भारी मात्रा में पुलिस बल का आना जारी रहा और साथ में पुलिस के बड़े अधिकारी भी मौके पर पहुंचने लगे।

पुलिस की उपस्थिति में इस घटने को लेकर दोनों पक्षो में बात चल ही रही थी तब तक एएसपी दक्षिणी, एसडीएम सीओ व अन्य अधिकारी भी पहुंच गए।

तीन लोग गिरफ्तार

अपर पुलिस अधीक्षक के द्वारा बताया जा रहा है कि घटना में विधायक शशांक वर्मा के बड़े भाई इंद्र सिंह वर्मा जो कि जिला अस्पताल के डॉक्टर है उन्होंने 11 लोगों के उपर नामजद और 50 लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराया है। जिसमें पुलिस ने 3 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है जो मुकदमे में नामजद थे। बाकी लोगों कि गिरफ्तारी करने के लिए पुलिस अलग-अलग जगह पर दबिश दे रही है।

बताया जा रहा है कि विधायक शशांक वर्मा नैमिष तीर्थ के अहोबिल मठ के पास स्थित लोक कल्याण ट्रस्ट रावत पुरा सरकार के संरक्षक हैं। वह समर्थकों के साथ शनिवार के देर रात ट्रस्ट आश्रम पहुंचे थे। इस दौरान विधायक के साथ आए लोगों ने ट्रस्ट गेट के बाहर आसपास के लोगों की मकान निर्माण सामग्री पड़ी हुई थी जिनको वहा हटाने की बात  को लेकर दोनों पक्षों में कहासुनी होने लगी। कहासुनी ज्यादा बढ़ने पर मोहल्ले के लोगों ने विधायक के काफिले पर पथराव शुरू कर दिया। विधायक ने पुलिस को सूचना दी और मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल पहुंचा।

य़ह भी पढ़े: Bird Flu: Zoo के सभी पक्षियों को मारने के आदेश, मांस पर लगी रोक

Related Articles