असफलता की कहानियां, सफलता से ज्यादा सीख देतीं हैं: रणबीर कपूर

मुंबई: बॉलीवुड अभिनेता रणबीर कपूर का मानना है कि उनकी असफलता की कहानियां, सफलता से ज्यादा सीख देतीं हैं। रविवार को सोशल मीडिया पर प्रशंसकों से सवाल-जवाब के दौरान जब एक प्रशंसक ने रणबीर से पूछा कि वे असफलताओं और झुंझलाहट से कैसे निपटते हैं, रणबीर ने कहा, “मैंने सिर्फ अपनी असफलताओं से सीखा है, ना कि अपनी सफलताओं से।”

सफलता का जश्न मनाने के सवाल पर उन्होंने कहा, “अपने माथे से पसीना पोंछकर खुद से यह बोल देता हूं, ‘बच गए।”‘

रणबीर अपने करियर में कई हिट और फ्लॉप फिल्मों का हिस्सा रहे हैं।

‘सांवरिया’ जैसी फिल्म से शुरुआत करने वाले रणबीर ने ‘वेक अप सिड’, ‘अजब प्रेम की गजब कहानी’ और ‘रॉकेट सिंह : सेल्समैन ऑफ द इयर’ जैसी फिल्में करने के बाद ‘रॉकस्टार’, ‘बर्फी’ और ‘ये जवानी है दीवानी’ जैसी अलग तरह की फिल्मों में काम किया।

उनकी ‘बॉम्बे वेलवेट’, ‘तमाशा’ और ‘जग्गा जासूस’ जैसी कुछ फिल्में असफल रहीं।

जब एक प्रशंसक ने उनसे पूछा कि वे खुद को 10 वर्ष बाद कहां देखते हैं, उन्होंने कहा, “उम्मीद है कि मैं कई सालों तक आप सभी का मनोरंजन कर सकता हूं।”

उनकी आगामी फिल्म ‘संजू’, अभिनेता संजय दत्त की बायोपिक (जीवनी) है।

उन्होंने कहा कि बायोपिक में काम करने पर एक ही समय पर भयावह और रोमांचकारी अनुभव साथ-साथ होता है।

Related Articles