कीर्ति की हरसंभव करुंगा मदद: स्वामी

Swamy

नई दिल्ली। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने बीजेपी के लोकसभा सांसद कीर्ति आजाद को पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में निलंबित कर दिया। डीडीसीए विवाद में कीर्ति सार्वजनिक रूप से वित्त मंत्री अरुण जेटली पर आरोप लगाते रहे थे। इसके अलावा कीर्ति आजाद बीजेपी के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी से रात आठ बजे उनके आवास पर मुलाकात करने जाएंगे। वहीं सुबह बीजेपी के मार्गदर्शक नेताओं के यहां हुई बैठक में यह फैसला लिया गया है कि इस मुद्दे पर अब सिर्फ पार्टी में बातचीत होगी बाहर कोई भी बात नहीं होगी। बीजेपी के वरिष्‍ठ नेताओं ने कीर्ति के निलंबन का विरोध किया है।

पढ़ें:  जेटली ने कांग्रेस-केजरीवाल पर फेंका फेसबुक बम

सुब्रमण्यम स्वामी ने किया कीर्ति का बचाव
बीजेपी के नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कीर्ति का बचाव करते हुए कहा है कि पार्टी को उनके जैसे ईमानदार नेता को नहीं खोना चाहिए। उन्होंने ये भी कहा कि वो कीर्ति की हर संभव मदद करेंगे।

kirti azad

कीर्ति की मदद करने का वादा
कीर्ति ने कहा कि उन्हें पार्टी की तरफ से नोटिस मिला है और वो उसका जवाब देंगे। उन्होंने बताया कि सुब्रमण्यम स्वामी जवाब देने में उनकी मदद करेंगे। उन्होंने कहा कि मैं शाम तक पार्टी को जवाब दूंगा। इस बारे में पूछे जाने पर स्वामी ने कहा कि मैं इस बात की पुष्टि करता हूं कि ड्राफ्ट नोटिस तैयार करने में कीर्ति आजाद की मदद करूंगा। मैं उन्हें तब से जानता हूं, जब वो नौजवान थे। मैं उनके पिता का अच्छा दोस्त रहा। इसके आगे मैं यही कहूंगा कि वो अब भी बीजेपी के सदस्य हैं। मुझे उनकी मदद करने का पूरा अधिकार है। मुझे नहीं लगता कि पार्टी को ऐसे ईमानदार इंसान को खोना चाहिए।

पढ़ें: कीर्ति पर बीजेपी में तकरार, जोशी के घर मार्गदर्शक मंडल की बैठक

सच बोलने की सजा: आजाद
निलंबन के बाद कीर्ति आजाद ने कहा कि मैंने कोई पार्टी विरोधी गतिविधि नहीं की। मैं 9 साल से इस मुद्दे को उठा रहा हूं। अगर कोई जिम्मेदार है तो वो पार्टी स्वयं है। जो सच बोलता है वो बाहर होता है। अब मैं बताता हूं। मैंने व्यक्तिगत किसी के खिलाफ नहीं बोला। ये पार्टी के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है कि मुझे हटाया गया।

pm-narendra-modi_650x400_61449204832

पीएम पर भी दागे सवाल
कीर्ति ने पीएम नरेंद्र मोदी से अपने निलंबन की वजह पूछी है। उन्होंने कहा कि मैं पीएम नरेंद्र मोदी से कहना चाहता हूं कि उन्हें सामने आकर सामने आकर बताना चाहिए कि मेरा कसूर क्या है। मैं जानना चाहता हूं कि क्या मुझे इसलिए निलंबित किया गया है कि मैंने डीडीसीए में भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाई है। क्या मुझे इसलिए निलंबित किया गया है कि मैंने बीसीसीआई में भी भ्रष्टाचार के अन्य मामलों में आवाज उठाई थी। मैं उचित जवाब चाहता हूं। पार्टी को साफ करना चाहिए कि मैंने किनके साथ सांठ-गांठ की है। मार्ग दर्शक मंडल और वरिष्ठ नेताओं को इस मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए।

जेटली पर बोला था हमला
कीर्ति आजाद ने वित्त मंत्री अरुण जेटली के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। आजाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जेटली का नाम लिए बगैर आरोप लगाया था कि डीडीसीए में फर्जी कंपनियों को करोड़ों का भुगतान किया गया। आजाद पिछले काफी समय से डीडीसीए में कथित रूप से हुए भ्रष्टाचार को लेकर काफी मुखर रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button