Superman Birthday: बच्चों का पसंदीदा कार्टून सुपरमैन जानिए सिनेमा में कैसे उड़ा?

30 जून 1938 बच्चों का पसंदीदा कार्टून Superman पहली बार Comic Books में नजर आया और देखते ही देखते यह बच्चों का हीरो बन गया

नई दिल्ली: तेजी से चलने वाली गोली से भी तेज Locomotive से भी अधिक शक्तिशाली। एक ही सीमा में ऊंची इमारतों को छलांग लगाने में सक्षम। देखो, ऊपर आकाश में, यह एक पक्षी है। यह एक विमान है,यह सुपरमैन है। हां, यह सुपरमैन है। आज ही के दिन यानी कि 30 जून 1938 को बच्चों का पसंदीदा कार्टून Superman पहली बार कॉमिक (Comic Books) में नजर आया। और देखते ही देखते यह बच्चों का हीरो बन गया। युवाओं में भी इसका एक अलग ही क्रेस था।

 

Comic Book Action

सुपरमैन एक Superhero Character है जो पहली बार DC Comics द्वारा प्रकाशित अमेरिकी कॉमिक पुस्तकों में दिखाई दिया। यह चरित्र लेखक जेरी सीगल (Jerry Siegel) और कलाकार जो शस्टर द्वारा बनाया गया था, और पहली बार कॉमिक बुक एक्शन (Comic Book Action) कॉमिक्स में दिखाई दिया। जो बाद में कई रेडियो धारावाहिकों, समाचार-पत्रों की कतरनों, टेलीविजन कार्यक्रमों, फिल्मों एवं विडियो-गेम द्वारा काफी प्रचलित हुए। लिहाजा इस अभूतपूर्व सफलता के बाद, सुपरमैन की प्रेरणा की तर्ज पर सुपरहीरोज की एक पूरी पीढ़ी खड़ी हो गई और अमेरिकी कॉमिक्स जगत (American Comics world) में प्रधान रूप से स्थापित भी हुए।

सुपरमैन की उपस्थिति को प्रतिकात्मक तौर पर अति विशेष ध्यान रखा गया, जैसे उनकी नीली पोशाक, लाल लबादा और सीने पर लाल एवं पीले रंग का लिखा अंग्रेजी में “S” एस अक्षर का गढ़ा हुआ शिल्ड। इस शिल्ड का मिडिया में लगभग कई बार विभिन्न अवसरों पर अलग-अलग ढंग से किरदार के चिन्ह स्वरूप दर्शाया गया है। मूल तौर पर सुपरमैन की उद्गम कथाओं में उसे सुदूरवर्ती ब्रह्मांड के काल्पनिक ग्रह क्रिप्टॉन का अंतिम वासी कहा जाता है, जिसका वास्तविक नाम काल-एल है, जिसे उसके वैज्ञानिक पिता ज़ोर-एल उसे तब रॉकेट द्वारा पृथ्वी को प्रक्षेपित करते हैं, जब उनका ग्रह क्रिप्टॉन नष्ट होना प्रारम्भ होता है।

Creation and conception

जैरी सीगल और जो शस्टर (Joe Shuster) 1932 में क्लीवलैंड में ग्लेनविले हाई स्कूल में पढ़ते हुए मिले और कल्पना की उनकी प्रशंसा पर बंधे। सीगल एक लेखक बनने की ख्वाहिश रखता था और शस्टर एक इलस्ट्रेटर बनने की ख्वाहिश रखता था। सीगल ने शौकिया विज्ञान कथा कहानियां लिखीं, जिसे उन्होंने साइंस फिक्शन: द एडवांस गार्ड ऑफ फ्यूचर सिविलाइजेशन नामक पत्रिका के रूप में स्वयं प्रकाशित किया। उनके दोस्त शस्टर अक्सर उनके काम के लिए उदाहरण देते थे। जनवरी 1933 में सीगल ने अपनी पत्रिका में “द रेन ऑफ द सुपरमैन” शीर्षक से एक लघु कहानी प्रकाशित की।

यह भी पढ़ेमंदिरा बेदी पति का हार्ट अटैक से निधन, खबर मिलने के बाद बॉलीवुड जगत में शोक

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles