सुप्रीम कोर्ट ने वॉट्सऐप को भेजा कारण बताओ नोटिस

नई दिल्ली : करीब एक हफ्ते पहले सूचना एवं प्रसारण मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मॉब लिंचिंग और अफवाहों से होने वाली की घटनाओं को रोकने के लिए वॉट्सऐप से एक शिकायत अधिकारी नियुक्त करने के लिए कहा था, लेकिन एक हफ्ते बाद भी वाट्सऐप की तरफ से ऐसा कोई कदम नहीं उठाया गया। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने वाट्सऐप को फटकार लगाते हुए कारण बताओ नोटिस भेजा।

SC ने वॉट्सऐप से सवाल किया कि उसने देश में अब तक शिकायत अधिकारी नियुक्त क्यों नहीं किया? इस केस में सुप्रीम कोर्ट ने वॉट्सऐप, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय और वित्त मंत्रालय को नोटिस जारी कर चार हफ्ते में जवाब मांगा है।

केंद्र सरकार ने वॉट्सऐप को भारत में काम करने के लिए कॉरपोरेट यूनिट बनाने और फेक मैसेज के शुरुआती सोर्स का पता लगाने के लिए तकनीकी समाधान ढूंढने को कहा था।

Related Articles