स्वीडन ने सुरक्षा के लिहाज़ से 5G के लिए Huawei, ZTE पर लगाया प्रतिबंध

स्वीडन ने सुरक्षा के लिहाज़ से 5G के लिए Huawei, ZTE पर लगाया प्रतिबंध

स्टॉकहोमः स्वीडन ने अपने देश को चीन से होने वाले खतरे से बचने के लिए लिए बड़ा फैसला लिया है। स्वीडन ने 5G टेक्नोलॉजी के लिए चीनी स्मार्टफोन कम्पनी Huawei और ZTE नेटवर्क गैजेट्स के इस्तेमाल को अपने देश में प्रतिबंधित कर दिया है। स्वीडन के टेलीकॉम रेगुलेटरी संस्था के हवाले से मंगलवार को कहा गया कि 5जी टेक्नोलॉजी के लिए होने वाली स्पेक्ट्रम ऑक्शन में प्रतिभाग करने वाली टेलीकॉम कंपनियों को इस बात की सख्त हिदायत दी गई है कि वो किसी भी तरह से Huawei और ZTE नेटवर्क गैजेट्स के इस्तेमाल नहीं कर सकते।

Huawei और ZTE के पहले से लगे गैजेट्स को हटा लें

स्वीडन की टेलीकॉम रेगुलेटरी रेगुलेटरी बॉडी ‘स्वीडिश पोस्ट एंड टेलीकॉम अथॉरिटी’ ने कहा कि जो टेलीकॉम कंपनियां 5G टेक्नोलॉजी के लिए अपने मौजूदा ढांचे का उपयोग करना चाहती हैं उन्हें भी सुनिश्चित करना होगा कि वह Huawei और ZTE के पहले से लगे गैजेट्स को हटा लें। ऑथॉरिटी ने कहा कि ये शर्तें स्वीडन की सेक्योरिटी फोर्सेज और सुरक्षा सेवाओं द्वारा की गई समीक्षा के आधार पर तय की गई हैं। Huawei ने इसे ‘अचंभित करने वाला’ और ‘निराशाजनक’ बताया है।

घरेलू कंपनी Ericsson और फिनलैंड की Nokia के लिए अवसर

Huawei को प्रतिबंधित करने वाले देशों की फेहरिस्त में स्वीडन सबसे नया देश बन गया है। सीडान के इस निर्णय से चीन और ईस्टर्न कॉन्ट्रीज़ के बीच तनाव और विवाद होने का अब अंदेशा है। अमेरिकी अधिकारियों ने Huawei को प्रतिबंधित करने के लिए यूरोप में बड़े पैमाने पर पैरवी की है। स्वीडन के इस प्रतिबंध से घरेलू कंपनी Ericsson और फिनलैंड की Nokia के सामने ज्यादा अवसर मौजूद होंगे। दोनों ही नेटवर्क उपकरण क्षेत्र में Huawei की प्रतिद्वंदी कंपनियां हैं। स्वीडन की घरेलू सुरक्षा सेवा के प्रमुख क्लास फ्रिबर्ग ने चीन को स्वीडन के लिए सबसे बड़े खतरों में से एक बताया। उन्होंने कहा कि चीन खुद के आर्थिक विकास को बढ़ाने और सैन्य क्षमताएं विकसित करने के लिए साइबर जासूसी करा रहा है।

ये भी पढ़ें : तीन भाइयों ने चाकू की नोक पर किया युवती का गैंगरेप, आरोपी गिरफ्तार

Related Articles

Back to top button