इटावा के ऐतिहासिक कालिका देवी मंदिर के आँगन में सैयद पीर बाबा की दरगाह भी

इटावा: उत्तर प्रदेश के इटावा में कभी स्वर्णनगरी के रूप में विख्यात रहे लखना कस्बे का ऐतिहाससिक कालिका देवी मंदिर दलित पुजारी की तैनाती के कारण देश में दलित चेतना की अलख जगाता हुआ दिख रहा है।

दलित सेवक करते हैं मंदिर में देवी की देखभाल

मंदिर के मुख्य प्रबंधक रवि शंकर शुक्ला ने गुरूवार को बताया कि मंदिर के प्रांरभकाल से दलितों को सम्मान देने के लिहाज से मंदिर का सेवक हमेशा से दलित को बनाये जाने की व्यवस्था की गई है। पुराने किस्सों का जिक्र करते हुए उन्होंने बताया कि राजा ने जब देखा कि दलितों को समाज में सम्मान नहीं दिया जाता तो ऐलान किया था कि इस मंदिर का सेवक दलित ही होगा। तब से आज तक उसी दलित परिवार के सदस्य मंदिर की सेवा में जुटे हैं ।

ये मंदिर है सांप्रदायिक एकता व सौहार्द की मिसाल

उन्होंने बताया कि मंदिर के पुजारी अशोक दोहरे व अखिलेश दोहरे के पूर्वज महामाया भगवती देवी की पूजा-अर्चना करते आ रहे हैं। इस मंदिर के प्रांगण में एक ओर जहां मंदिर में काली माता विराजती हैं तो वहीं उसी आंगन में स्थित सैयद पीर बाबा की दरगाह है, जो सांप्रदायिक एकता व सौहार्द की मिसाल है।

उनके मजार पर चादर, कौड़ियां एवं बताशा चढ़ाया जाता है। बताया जाता है कि सैयद बाबा की दुआ किए बिना किसी भक्त की मन्नत पूरी नहीं होती है।

यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र और आंध्रप्रदेश समेत इन राज्यों में एक दिन में कोरोना संक्रमित 48,539 मरीज हुए स्वस्थ

यह भी पढ़ें: तेलंगाना के पूर्व गृहमंत्री नयिनी नरसिम्हा रेड्डी का निधन, 86 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

Related Articles

Back to top button