अफगान में तालिबान का कहर, विश्विद्यालय में पढ़ने वाले लड़के लड़कियों के लिए फतवा जारी

काबुल: अफगानिस्तान में तालिबान (Taliban) ने अपनी हुकूमत के साथ साथ कड़े नियम बनाना शुरू कर दिया है। तालिबान ने अपना एक नया फतवा जारी कर दिया गया है। खामा न्यूज के खबरों के मुताबिक, अफगानिस्तान (Afghanistan) के हेरात प्रांत में तालिबान अधिकारियों ने सरकारी और निजी विश्वविद्यालयों को अपना पहला फतवा आदेश जारी करते हुए कहा है कि लड़कियों को अब लड़कों के साथ एक ही कक्षा में नहीं बैठने दिया जाएगा।

अफगानिस्तान में विश्वविद्यालय के व्याख्याताओं, निजी स्कूल कॉलेज के मालिकों और तालिबान अधिकारियों के बीच तीन घंटे की बैठक हुई। इस बैठक में कहा गया कि सह-शिक्षा जारी रखने का कोई विकल्प और औचित्य नहीं है और इसे समाप्त कर देना जाना चाहिए। अफगानिस्तान में सह-शिक्षा और अलग-अलग कक्षाओं का मिक्स सिस्टम है, जिसमें अलग-अलग कक्षाएं संचालित करने वाले स्कूल हैं, जबकि देश भर के सरकारी और निजी विश्वविद्यालयों और संस्थानों में सह-शिक्षा लागू की जाती है।

हेरात प्रांत के व्याख्याताओं ने बैठक के बाद अपना तर्क दिया है कि सरकारी विश्वविद्यालय और संस्थान में अलग-अलग कक्षाओं का प्रबंधन तो कर सकते हैं, लेकिन निजी संस्थानों में महिला छात्रों की सीमित संख्या की वजह से अलग-अलग कक्षाओं का इंतजाम नहीं कर सकते है।

फरीद ने एक विकल्प के रूप में सुझाव दिया कि महिला व्याख्याताओं या बुजुर्ग पुरुष जो गुणी हैं, उन्हें महिला छात्रों को पढ़ाने की अनुमति है और सह-शिक्षा के लिए न तो कोई विकल्प है और न ही कोई औचित्य है। हेरात में व्याख्याताओं ने कहा, चूंकि निजी संस्थान अलग-अलग कक्षाओं का खर्च नहीं उठा सकते हैं, इसलिए हजारों लड़कियां उच्च शिक्षा से वंचित रह सकती हैं। बता दें कि प्रांत में निजी और सरकारी विश्वविद्यालयों और संस्थानों में लगभग 40,000 छात्र और 2,000 व्याख्याता हैं।

Related Articles