Tanishq ने लिया विवादित वीडियो ऐड वापस, अब गुजरात में स्टोर को मिली धमकियां

Tanishq ने लिया विवादित वीडियो ऐड वापस, अब गुजरात में स्टोर को मिली धमकियां

नई दिल्ली: ज्वेलरी बनाने वाले देश की नामचीन कम्पनी Tanishq के वीडियो ऐड के विवाद में आने के बाद कम्पनी ने उस विज्ञापन को बयान जारी कर वापस ले लिया है। कम्पनी ने अपने बयान में कहा कि ‘ हमने ये ऐड एकत्वम अभियान के तहत लांच किया था जिसका मकसद, इस चुनौतीपूर्ण समय के में विभिन्न क्षेत्र के लोगों, स्थानीय समुदायों और परिवारों से एक साथ आकर जश्न मनाने का है। लेकिन इस फिल्म पर गंभीर व उकसाने वाली प्रतिक्रियाएं मिली, जो कि फिल्म के उद्देश्य से बिल्कुल उलट हैं। हम बेवजह भावनाओं के इस तरह उत्तेजित होने से बेहद दुखी हैं और हमारे कर्मचारियों, साझेदारों और स्टोरकर्मियों की सुरक्षाा को ध्यान में रखते हुए इस फिल्म को वापस लेते हैं।’

https://twitter.com/TanishqJewelry/status/1316033929791467520/photo/1

लेकिन ऐड पर विरोध के बीच गुजरात के गांधीधाम में कंपनी के एक स्टोर के मैनेजर से जबरन माफीनामा लिखवाए जाने की खबर सामने आयी है। कथित तौर पर स्टोर को धमकियां भी मिली थीं। जिसके बाद स्टोर पर पुलिस तैनात है।

बता दें कि Tanishq के एक वीडियो विज्ञापन को लेकर विवाद कम होने का नाम नहीं ले रहा है। इसका विरोध सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म्स पर भी जोर पकड़े हुए है। ट्विटर पर बायकॉट तनिष्क ट्रेंड से शुरू हुआ और वहां से उठा ये मामला ऐड हटाने से लेकर कंपनी के एक स्टोर पर को धमकियां मिलने तक पहुंच गया।

विज्ञापन में दो परिवारों के बीच अंतरधार्मिक विवाह दिखाया

बता दें ज्वलेरी निर्माता कंपनी Tanishq ने पिछले हफ्ते अपने नए कलेक्शन ‘एकत्वम’ को लेकर एक वीडियो विज्ञापन जारी किया था, जिसमें दो परिवारों के बीच अंतरधार्मिक विवाह दिखाया गया था। ट्विटर पर इस विज्ञापन को लेकर विरोध देखा गया। जिसमें #BoycottTanishq ट्रेंड होने लगा। सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने इसे ‘लव ज़िहाद को बढ़ावा’ देने वाला विज्ञापन बताया और इसे तत्काल हटाने की मांग की। जिसके बाद इस विज्ञापन को लेकर तनिष्क़ ने विरोध को देखते हुए सोमवार को अपना ऐड वापस ले लिया।

क्या था इस विज्ञापन में?

इस वीडियो विज्ञापन में एक गर्भवती महिला की गोदभराई की रस्म दिखाई गई थी, जिसने साड़ी पहन रखी है और उसकी सास उसे रस्म में ले जा रही है। वीडियो खत्म होने के बाद महिला अपनी सास, जिन्होंने सलवार सूट पहन रखा है और सिर पर दुपट्टा डाल रखा है, उससे पूछती है- मां, लेकिन यह रस्म तो आपके घर में होती भी नहीं न, इसपर सास का जवाब आता है- लेकिन बिटिया को खुश रखने की रस्म तो हर घर में होती है न।

इस ऐड का विरोध करते हुए ट्विटर पर कुछ लोगों ने कहा था कि यह ऐड लव जिहाद और फर्जी धर्मनिरपेक्षता को बढ़ावा दे रहा है। विज्ञापन के विरोध में एक यूजर ने तो यहां तक लिखा कि ‘ऐसे विज्ञापनों में हमेशा मुस्लिम पति और हिन्दू पत्नी ही क्यों दिखाते हैं, हिंदू पति और मुस्लिम पत्नी क्यों नहीं?’

ये भी पढ़ें : बांग्लादेश से पिछड़ सकता है भारत,बीजेपी के नफरत भरे राष्ट्रवाद की उपलब्धि :राहुल गाँधी

Related Articles