तारेक Hamdi ने जीता सऊदी अरब का पहला ओलंपिक सिल्वर

रियाद : सऊदी एथलीट तारेक Hamdi अपने देश को अपने इतिहास में पहला ओलंपिक स्वर्ण पदक उपहार में देने की राह पर थे, लेकिन टोक्यो 2020 में पुरुषों के कराटे कुमाइट +75 किग्रा के फाइनल में एक तकनीकी भूल ने उन्हें गोल्ड से दूर कर रजत पदक के साथ छोड़ दिया।

Hamdi की एक चूक और टूट गया सुनहरा सपना

फाइनल में ईरान के सज्जाद गंजजादेह से मिली हार के बाद हम्दी को सिल्वर से संतोष करना पड़ा। मुकाबले की बात करें तो सऊदी खिलाडी 4-1 से लीड बनाये हुए थे लेकिन तभी उनसे एक टेक्निकल गलती हो गई जिसका फ़ायदा ईरानी खिलाड़ी ने उठा लिया। सिडनी 2000 ओलिंपिक जिसमे धावक हादी सावन ने 400 मीटर बाधा दौड़ में रजत पदक के बाद पहला सिल्वर मेडल है।

मुकाबले में हम्दी अपनी राउंडहाउस किक, जैब्स और घूंसे की नुमाइश करते दिखे, लेकिन तभी उन्होंने अपने कॉम्पिटिटर को उठा कर पटक दिया, नतीजतन हम्दी को गोल्ड से हाथ धोना पड़ा।

यह भी पढ़ें : इंटरनेट पर बवाल मचा रही जॉर्जिया की गोल्डन स्विमसूट, देखें तस्वीरें

मुकाबले के शुरुआत के नौ सेकंड के भीतर, हम्दी ने 3-0 की बढ़त बनाने के लिए एक इप्पॉन बनाया था, और जल्द ही एक युको के साथ अपनी बढ़त को चार अंक तक बढ़ा दिया। सऊदी खिलाड़ी स्वर्ण की ओर बढ़ रहा था, लेकिन तभी कहानी ने दर्दनाक मोड़ ले लिया।

इस के बावजूद खेल मंत्री प्रिंस अब्दुलअज़ीज़ बिन तुर्की फैसल ने तारेक हमदी को बधाई दी, उनके प्रदर्शन के लिए 50 लाख रियाल इनाम की घोषणा की।

यह भी पढ़ें : बेटी कमांडेंट बनकर आई सामने तो इंस्पेक्टर पिता ने ठोका सैल्यूट, गर्व से चौड़ा हुआ सीना

Related Articles