राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को अंग्रेजी पढ़ाने वाले गुरु का निधन

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को अंग्रेजी पढ़ाने वाले शिक्षक 97 वर्षीय प्यारे लाल वर्मा का एक अक्तूबर को निधन हो गया। भैरव घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। शुक्रवार को उनके पांडु नगर स्थित आवास पर शांतिपाठ और हवन होगा। इसमें स्कूल के शिक्षकों के साथ ही शहर के कई विशिष्ठ लोग शामिल होंगे।

पांडु नगर में रहने वाले प्यारे लाल वर्मा बीएनएसडी इंटर कॉलेज चुन्नीगंज में अंग्रेजी के शिक्षक थे। यहां उन्होंने सन् 1944 -82 तक अध्यापन कार्य किया था। 1960 से 1964 तक रामनाथ कोविंद ने इसी कॉलेस से नवीं से इंटर तक की पढ़ाई की। उस दौरान प्यारे लाल ने ही उन्हें अंग्रेजी विषय पढ़ाया था। बीएनएसडी कॉलेज के शिक्षक दिवाकर मिश्रा ने बताया कि 97 वर्षीय प्यारेलाल लंबे समय से बीमार चल रहे थे। राष्ट्रपति के गुरु और बीएनएसडी के पूर्व शिक्षक के निधन की जानकारी मिलते ही कॉलेज में शोक की लहर दौड़ गई। राष्ट्रपति को भी इसकी सूचना भेज दी गई है।

राष्ट्रपति बनने के बाद गुरुओं को किया था सम्मानित
राष्ट्रपति बनने के बाद रामनाथ कोविंद ने अपने गुरुओं को सम्मानित करने की इच्छा जताई थी। इसके बाद 25 फरवरी 2019 को बीएनएसडी शिक्षा निकेतन इंटर कॉलेज बेनाझाबर में एक शिक्षक सम्मान समारोह का आयोजन किया गया था। इसमें राष्ट्रपति ने अपने गुरु प्यारेलाल के साथ ही हरीराम कपूर और टीएन टंडन को सम्मानित किया था।

मंच से नीचे उतरकर राष्ट्रपति ने गुरु का छुआ था पैर
समारोह के दौरान अपने अंग्रेजी के गुरु प्यारे लाल वर्मा को सम्मानित करने के लिए राष्ट्रपति मंच से नीचे उतरकर सबसे पहले दोनों हाथों से उनके पैर छूआ। इसके बाद पूछा था कि… गुरु जी आप मुझे भूले तो नही हैं। इस पर प्यारेलाल ने राष्ट्रपति की पीठ पर हाथ रखा और आशीर्वाद दिया। प्यारेलाल ने कहा था कि आज मैं गर्व महसूस कर रहा हूं। समारोह के दौरान राष्ट्रपति ने प्यारेलाल के साथ मौजूद उनकी बहू से गुरु का ख्याल रखने की बात कही थी।

Related Articles