टीम इंडिया जल्‍द शुरू करेगी ट्रेनिंग, जानिए किसने किया तारीख का ऐलान

0

कोरोना वायरस  के कारण इस वक्‍त पूरी दुनिया में तहलका बचा हुआ है. ज्‍यादातर देश लॉकडाउन में चल रहे हैं. सभी काम और खेल रुके हुए हैं, लेकिन अब जो स्‍थिति बन रही है, उससे नहीं लगता कि कोरोना अभी जाएगा, वहीं लॉकडाउन भी अब ज्‍यादा दिन तक नहीं खींचा जा सकता. हो सकता है कि लॉकडाउन को इतना हल्‍का कर दिया जाए कि बहुत ज्‍यादा काम प्रभावित न हों. सबसे बड़ी दिक्‍कत खेल की भी है. करीब दो महीने से कहीं भी कोई भी खेल नहीं हो रहा है. लेकिन अब लगता है कि भारत में लॉकडाउन का चौथा चरण होगा तो, लेकिन इसमें बहुत सारी ढील दी जा सकती है. बहुत संभव है कि खेल भले अभी शुरू न हो सके, लेकिन कम से कम खिलाड़ियों की प्रैक्‍टिस शुरू हो सकती है. हो सकता है कि खिलाड़ी जल्‍द ही मैदान पर प्रैक्‍टिस शुरू करते हुए नजर आएं.

भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के कोषाध्यक्ष अरुण धूमल ने खेल को दोबारा शुरू करने के खाके पर गुरुवार को कहा कि अगर चौथे चरण के राष्ट्रीय लॉकडाउन में पाबंदियों में ढील दी गई तो बड़े क्रिकेटर 18 मई के बाद कौशल आधारित आउटडोर ट्रेनिंग शुरू कर सकते हैं. कोरोना वायरस महामारी के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए देश भर में जारी लॉकडाउन के कारण सभी शीर्ष खिलाड़ी अपने घरों पर हैं और खुद को फिट रखने के लिए कुछ एक्सरसाइज कर रहे हैं.

बीसीसीआई कोषाध्यक्ष अरुण धूमल ने कहा, हां, बीसीसीआई विकल्पों पर विचार कर रहा है कि खिलाड़ी कैसे अपनी कौशल आधारित आउटडोर ट्रेनिंग शुरू करें, लेकिन इसके बाद केंद्र सरकार से 18 मई के बाद अनुकूल दिशानिर्देश मिलने जरूरी हैं. विस्तार से पूछने जाने पर उन्होंने कहा, खिलाड़ी यात्रा नहीं कर सकते इसलिए हम विकल्पों पर विचार कर रहे हैं कि क्या वे अपने घरों के पास मैदान में कौशल ट्रेनिंग (नेट सत्र) शुरू कर सकते हैं. अरुण धूमल ने कहा, लॉकडाउन के बाद के चरण के लिए हमने खिलाड़ियों के लिए खाका तैयार किया है. उम्मीद है कि अगर खिलाड़ी स्थानीय मैदानों पर भी ट्रेनिंग करते हैं तो बल्लेबाज के लिए नेट सत्र में खिलाड़ी और तीन नेट गेंदबाज शामिल हो सकते हैं. फिलहाल सभी भारतीय खिलाड़ी वे फिटनेस ड्रिल कर रहे हैं जो उनके लिए उनके ट्रेनर निक वेब ने तैयार की है. भारत के बड़े खिलाड़ियों में सिर्फ मोहम्मद शमी दौड़ने का अभ्यास कर पर रहे हैं. उनका उत्तर प्रदेश के अपने पैतृक गांव सहसपुर में स्वयं का क्रिकेट मैदान है. अधिकतर अन्य खिलाड़ी बड़े शहरों में हैं, जहां जगह की कमी के कारण जिम के जरिये खुद को फिट रख रहे हैं.

धूमल ने कहा कि बीसीसीआई ने खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ को विशेष ऐप मुहैया कराई है. उन्होंने कहा, वे ट्रेनिंग के लिए इस ऐप का इस्तेमाल कर रहे हैं. भारत के सभी सीनियर खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ के पास यह ऐप है. अरुण धूमल ने साथ ही कहा कि स्थिति के पूरी तरह सामान्य नहीं होने तक बीसीसीआई किसी तरह के शिविर का आयोजन नहीं करेगा. खिलाड़ियों को कोरोना वायरस के परीक्षण के लिए कहने के संदर्भ में धूमल ने कहा, हमारे सभी खिलाड़ी पहले दिन से घर में हैं और सामाजिक दूरी के नियमों का पालन कर रहे हैं. वे शिविर में नहीं हैं. धूमल ने कहा कि अगर सरकारी निर्देश होगा कि खिलाड़ियों को आरोग्य सेतु ऐप का इस्तेमाल करना है तो इन दिशानिर्देशों का पालन किया जाएगा.

loading...
शेयर करें