telecom सेक्टर : वीडियोकॉन का एजीआर बना एयरटेल के गले की फांस

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने चौबीस अगस्त को सेंट्रल गोवेनमेंट को निर्देश जारी कर कहा कि वह वीडियोकॉन Telecom के बकाया एजीआर को वसूलने के लिए भारती एयरटेल को मोहलत दें और कम से कम तीन हफ्ते तक भारती एयरटेल की बैंक गारंटी को जब्त न करे।

वीडियोकॉन telecom की उधारी चूका रहा है एयरटेल

इस कड़ी में आपकी जानकारी के लिए  बता दें कि वीडियोकॉन टेलीकॉम के स्पेक्ट्रम को एयरटेल ने साल 2016 में 2428 करोड़ रुपये में खरीदा था । इस डील से पहले वीडियोकॉन के ऊपर एजीआर के 1,376 करोड़ रुपये बकाया थे। इसके बाद हुई इस डील से वीडियोकॉन का सारा बकाया एयरटेल के ज़िम्मे आ गया। इस बकाया को जमा करने में एयरटेल काफी समय से टाल मटोल कर रही थी। इस के बाद दूरसंचार विभाग ने बयान जारी कर कहा कि अगर एयरटेल ने निर्धारित तिथि तक यह बकाया एजीआर नहीं चुकाती है तो फिर उसकी बैंक गारंटी जब्त कर ली जाएगी।

इस नोटिस के बाद एयरेटल ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। जिसमें यह मांग की गई थी कि दूरसंचार विभाग को बैंक गारंटी जब्त करने से रोका जाए। इस कड़ी में एक रिपोर्ट के मुताबिक, एयरटेल के वकील ने सुप्रीम कोर्ट के सामने यह दलील रखी कि स्पेक्ट्रम ट्रेडिंग गाइडलाइन में इस बात का स्पष्ट निर्देश है कि वीडियोकॉन को स्पेक्ट्रम ट्रेडिंग के लिए किसी तरह का करार करने से पहले अपने सभी पूर्व बकाए का भुगतान कर देना चाहिए था।

यह भी पढ़ें : कोर्ट में पेश हो सकते है केंद्रीय मंत्री नारायण राणे! बीजेपी करेंगी विरोध प्रदर्शन

Related Articles