IPL
IPL

देश में कोरोना का भीषण विस्फोट, Taj Mahal इतने दिनों के लिए बंद

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच ताजमहल को 15 मई तक के लिए बंद कर दिया गया है

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस (Corona virus) की दूसरी लहर बेकाबू हो चुकी है। संक्रमण का खतरा तेजी से बढ़ते ही जा रहा है। कोरोना ने देश को अपने संक्रमण की जाल में पूरी तरह से जकड़ लिया है। आलम ये है कि श्मशान घाट में लाशों की ढेर लग चुकी है। खतरे को देखते हुए ताजमहल (Taj Mahal) को 15 मई तक के लिए बंद कर दिया गया है।

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच ताजमहल को 15 मई तक के लिए बंद कर दिया गया है। आगरा के होटल और रेस्टोरेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष ने बताया, आगर में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से 10 लाख से ज्यादा लोग पर्यटन व्यवसाय से जुड़े हैं। इतनी जल्दी ताजमहल बंद नहीं करना चाहिए था।

देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए संस्कृति मंत्रालय ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण(ASI) द्वारा संरक्षित सभी स्मारकों को 15 मई तक बंद रखने का फैसला किया है।

विश्व धरोहर मकबरा

ताजमहल (Taj Mahal) उत्तरप्रदेश के आगरा शहर में स्थित एक विश्व धरोहर मकबरा है। इसका निर्माण मुगल सम्राट शाहजहाँ ने अपनी पत्नी मुमताज महल (Mumtaj Mahal) की याद में करवाया था। ताजमहल मुग़ल वास्तुकला का उत्कृष्ट (Excellent) नमूना है। इसकी वास्तु शैली फारसी, तुर्क, भारतीय और इस्लामी वास्तुकला के घटकों का अनोखा सम्मिलन है। सन् 1983  में ताजमहल युनेस्को विश्व धरोहर स्थल बना। ताजमहल को भारत की इस्लामी कला का रत्न भी घोषित किया गया है।

संगमर्मर की सिल्लियों की बड़ी- बड़ी पर्तो से ढंक कर बनाई गई इमारतों की तरह न बनाकर इसका श्वेत गुम्बद एवं टाइल आकार में संगमर्मर से ढंका है। केन्द्र में बना मकबरा अपनी वास्तु श्रेष्ठता में सौन्दर्य के संयोजन का परिचय देते हैं। ताजमहल इमारत समूह की संरचना की खास बात है, कि यह पूर्णतया सममितीय (Fully symmetric) है। इसका निर्माण सन् 1648 के लगभग पूर्ण हुआ था। उस्ताद अहमद लाहौरी को प्रायः इसका प्रधान रूपांकनकर्ता माना जाता है।

यह भी पढ़ेKaran Johar के टाइप के नहीं हैं Karthik Aryan, शायद इसलिए Dostana 2 से किया बाहर

Related Articles

Back to top button