पाकिस्तान (Pakistan) में पोलियो टीकाकरण टीम पर आतंकवादी हमला, एक पुलिसकर्मी की मौत

नई दिल्ली: पाकिस्तान (Pakistan) में तो वैसे आये दिन कोई न कोई हमला होता रहता है, बच्चे, बूढ़े इसकी चपेट में आकर अपनी जान गवाते रहते है. लेकिन अब स्वास्थ्य कर्मी भी इसका शिकार हो रहे है. पाकिस्तान में मंगलवार को पोलियों टीकाककरण (Polio Vaccination) टीम पर भी आतंकवादियों (Terrorist) ने हमला कर दिया, आतंकवादियों के इस हमले में एक पुलिसकर्मी की मौके पर ही मौत हो गई.

उत्तर-पश्चिमी पाकिस्तान में बेखौफ हमलावर

उत्तर-पश्चिमी पाकिस्तान में स्थित खैबर-पख्तूनख्वा प्रांत के करक जिले के लतंबर इलाके में अज्ञात हमलावरों ने टीकाकरण टीम पर अचानक हमला बोल दिया. इस दौरान टीकाकरण टीम की सुरक्षा के लिए कई पुलिसकर्मी आसपास के इलाकों में गश्त कर रहे थे. गश्त के दौरान हमलावरों की गोलीबारी में एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई. अभी तक किसी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है.

आतंकवादी संगठनों को जासूसी का डर

पूरे विश्व में अफगानिस्तान (Afganistan) और पाकिस्तान (Pakistan) दो ऐसे देश है जहां पोलियों अभी भी अपने पैर पसारे हुए है. ऐसा नहीं है कि इस तरह का ये पहला हमला है. इससे पहले भी कई आतंकवादी संगठन टीकाकरण अभियानों से पश्चिमी जासूसों को मदद मिलने का आरोप लगते हुए इसके रास्ते में रोड़ा बनते रहे है.

अब सवाल ये उठता है कि आतंकवादी संगठनों को आखिर ये दर क्यों है कि इससे उनकी जासूसी हो रही है. इसका जवाब ढूंढने के लिए हमे साल 2011 में जाना होगा जब अलकायदा के चीफ ओसामा बिन लादेन (Osama-Bin-Laden) को अमेरिकी सेना ने मारा था.

यह भी पढ़ें: कोरोना वैक्सीन की पहली खेप पहुंची लखनऊ, 16 तारीख से होगा टीकाकरण

ओसामा की मौत के बाद बिगड़ा माहौल

ओसामा के मौत के बाद ये खुलासा हुआ था कि ओसामा को पकड़ने के लिए अमेरिका की खुफिया एजेंसी सीआईए ने पकिस्तान में फर्जी हेपेटाइटिस टीकाकरण अभियान चलाया था. फिर क्या था आतंकवादी संगठन उसके बाद से इस तरह के तमाम टीकाकरण अभियान को शक की निगाहों से देखने लगे, और पाकिस्तान में तीकरण के दौरान हमले बढ़ते चले गए.

पाकिस्तान में पोलियो रोधी सप्ताह के दूसरे दिन यह हमला हुआ है। सोमवार से शुरू हुए पांच दिवसीय राष्ट्रीय टीकाकरण अभियान के दौरान करीब 4 करोड़ बच्चों को पोलियो का टीका लगाया जाना है.

पोलियों की चपेट में पाकिस्तान

पाकिस्तान इस बीमारी से बुरी तरीके से ग्रस्त है उसके बावजूद पाकिस्तान में डब्ल्यूएचओ के पोलियो शिविरों लगातार हमले किये जा रहे है. सबसे ज्यादा हमले आदिवासी इलाकों में हो रहे है.

पोलियों टीकाकरण को लेकर तालिबान के आतंकियों का अलग ही नजरिया है. तालिबानी आतंकियों का आरोप है पकिस्तान को कमजोर करने के लिए पश्चिमी देश योजनाबद्ध तरीके से षड्यंत्र रच रहे है. इस षड्यंत्र के तहत पाकिस्तानियों को नपुंसक बनाने की कोशिश की जा रही है.

डब्ल्यूएचओ लगातार कर रही कार्रवाई की मांग

लेकिन विश्व स्वास्थ्य (World Health Organization) संगठन इस तरह के तमाम दावों को बेबुनियाद करार देता है. उसके मुताबिक टीकाकरण अभियान भलाई के लिए किया जाता है न कि किसी देश को कमजोर बनाने के लिए. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने पकिस्तान सरकार से कई बार ऐसे संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करने की अपील की है.

यह भी पढ़ें: कोरोना वैक्सीन की पहली खेप पहुंची लखनऊ, 16 तारीख से होगा टीकाकरण

Related Articles