IPL
IPL

आतंकियों ने तीन महिला पत्रकारों को उतारा मौत के घाट, खुलासे में बताई ये बड़ी बात

काबुल: पूर्वी अफगानिस्तान में दहशत का माहौल बढ़ता जा रहा है, यहां पर तीन महिला पत्रकारों (Journalists) की हत्या कर दी गई है। ये तीनो महिला पत्रकार (Journalists) एक स्थानीय रेडियो एवं टीवी स्टेशन के लिए काम करती थी। आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) ने तीन महिलाओं की हत्या की जिम्मेदारी ली है। उधर इन हमलों के लिए अफगान सरकार ने तालिबान को जिम्मेदार ठहराया है। पूर्वी अफगानिस्तान में लोगों को निशाना बनाकर हत्या करने का सिलसिला तेजी से बढ़ रहा है।

एक स्थानीय रेडियो एवं टीवी स्टेशन के लिए काम करने वाली तीन महिला पत्रकारों मंगलवार को निशाना बनाकर हत्या कर दी गई थी। बुधवार को तीनों महिला मीडियाकर्मियों के शव का अंतिम संस्कार किया गया। निजी चैनल के समाचार संपादक और ननगरहर प्रांत के अधिकारियों ने बताया कि इन तीनो महिलाओं को अलग-अलग स्थानों पर गोली मारी गई है। अफगान अधिकारियों ने जानकारी दी है कि तीनों की हत्या करने वाले संदिग्धों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इन सबकी पहचान कारी बसर के रूप में की गई है।

ये भी पढ़ें : बाजार में बदमाशों ने बरसाईं ताबड़तोड़ गोलियां, एक छात्रा को लगी गोली

ताबिलानी प्रवक्ता ने दिया जवाब

पुलिस ने बताया था कि कारी बसर एक तालिबानी आतंकवादी है उधर पुलिस के इस दावे को तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने नकार दिया है। नंगरहार पुलिस प्रमुख जनरल जुमा गुल हेमत ने बताया है कि पकड़े गए बसर ने कबूला है कि हमले के समय इस्तमाल की गई पिस्टल में साइलेंसर लगाया था। पुलिस ने बताया है कि इस घटना की जानकारी लगने के कुछ देर बाद ही उसे जलालाबाद से गिरफ्तार कर लिया था।

ये भी पढ़ें : पेट्रोल-डीजल के बढ़ रहे दाम, लोग करेंगे साइकिल की सवारी

महिला पत्रकारों को क्यों बनाया निशाना?

उधर, इस हमले को लेकर आईएसआईएस ने बताया है कि आखिर इन तीन महिला पत्रकारों को क्यों निशाना बनाया गया है। उसने बताया है कि वे ‘‘धर्म का त्याग कर चुकी अफगान सरकार के वफादार मीडिया स्टेशनों’’ में से एक में काम करती थीं। यह एनिकास रेडियो और टीवी में कार्यरत महिलाओं पर किया गया पहला हमला नहीं है। पिछले साल दिसंबर में भी इस स्टेशन में कार्यरत महिला कर्मी मलाला मैवांद की हत्या की जिम्मेदारी आईएस ने ली थी।

Related Articles

Back to top button