टेस्ला ने मांगी टैक्स में छूट, ministry बोली “अरे पहले काम तो शुरू करो “

नई दिल्ली : भारत में एलॉन मस्क की महत्वाकांक्षाओं को बड़ा झटका देते हुए, इंडस्ट्री ministry ने अमेरिकी इलेक्ट्रिक कार मैन्युफैक्चरर टेस्ला से कहा है कि वह पहले भारत में अपने इलेक्ट्रिक वाहनों की मैन्युफैक्चरिंग शुरू करे, उसके बाद ही किसी तरह के टैक्स छूट पर विचार किया जा सकता है।

ministry ने बिना मैन्युफैक्चरिंग शुरू किये, सहूलियत देने से किया इंकार

इस कड़ी में पीटीआई के मुताबिक, सरकार किसी व्हीकल फर्म को ऐसी रियायतें नहीं दे रही है और टेस्ला को ड्यूटी में किसी भी तरह का लाभ या छूट देने से भारत में अरबों डॉलर का इनवेस्ट करने वाली दूसरी कंपनियों के बीच अच्छा संकेत नहीं जाएगा। इस कड़ी में आपकी जानकारी के लिए बता दें टेस्ला ने भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों पर इम्पोर्ट ड्यूटी में कमी की मांग की है।

इस कड़ी में जुलाई में,  एलोन मस्क ने ट्वीट किया कि वह “इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए अस्थायी टैरिफ राहत” की उम्मीद कर रहे हैं। मस्क ने कहा था कि टेस्ला जल्द ही भारत में अपनी कारों को लॉन्च करना चाहती है, लेकिन भारत में इम्पोर्ट ड्यूटी दुनिया में किसी भी देश के मुकाबले सबसे ज्यादा है! जानकारों के मुताबिक इस समय कंप्लीट बिल्ट यूनिट के रूप में इम्पोर्ट की जाने वाली कारों पर 60 से 100 प्रतिशत तक कस्टम ड्यूटी लगती है।

यह भी पढ़ें : चुनाव में बूथों पर भाजपा की बुरी नजर, क्षेत्रो में रहे मुस्तैद, जरा सी भी न हो चूक

Related Articles