टीईटी की परीक्षा पेपर लीक मामले सीएम योगी सख्त, दिए ये निर्देश

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीईटी की परीक्षा लीक मामले को काफी गंभीरता से लिया है। उन्होंने आरोपियों के खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट के तहत मुकदमा, उनकी संपत्ति जब्त कराने और राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

साथ ही उन्होंने परीक्षार्थियों को राहत देते हुए आई कार्ड दिखादिए है निर्देशकर उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की बसों में फ्री में आने जाने की सुविधा देने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा अभ्यर्थियों से दोबारा परीक्षा के लिए कोई भी अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जाएगा। इस मामले में अब तक प्रदेश में 23 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इन सभी के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। उन्होंने सख्त लहजे में कहा कि इस शरारत करने वालों को किसी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा।

पुन: एक महीने के भीतर अभ्यर्थियों से बिना कोई शुल्क लिए परीक्षा कराई जाएगी। इसके साथ ही इस प्रकरण में एफआईआर कराने के निर्देश दिए गए है और यूपी एसटीएफ को जांच सौंपी जा रही है ताकि दोषियों को चिन्हित करके उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा सके।

उत्तर प्रदेश बेसिक एजुकेशन बोर्ड, UPBEB द्वारा आयोजित शिक्षक पात्रता परीक्षा (UPTET 2021) की परीक्षा रद्द कर दी गई है। पेपर लीक होने के चलते एग्जाम को पोस्टपोंड किया गया है। ये परीक्षा दो पारियों में आयोजित होनी थी।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, गाजियाबाद, मथुरा और बुलंदशहर में पेपर व्हाट्सएप पर वायरल हो गया, जिसके बाद इसे कैंसिल कर दिया गया है। इसके बाद STF ने प्रदेश भर में छापेमारी की है। साथ ही प्रदेश सरकार ने परीक्षा रद्द करने का फैसला किया है।

सूत्रों के अनुसार यूपी सरकार एक महीने के भीतर दोबारा यूपीटीईटी की परीक्षा आयोजित कराएगी साथ ही पेपर कराने वाली एजेंसी को ब्लैक लिस्ट किया जाएगा।

Related Articles