मेडिकल की पढ़ाई के लिए भारतीयों को स्कॉलरशिप देगी टीएयू

0

नई दिल्ली: टेक्सिला अमेरिकन यूनिवर्सिटी (टीएयू) ने अपनी मेडिकल की पढ़ाई पूरी करने के इच्छुक भारतीय विद्यार्थियों के लिए आकर्षक स्कॉलरशिप की घोषणा की है। टीयूए द्वारा गयाना, दक्षिण अमेरिका में एक एमसीआइ मान्यता प्राप्त मेडिसिन प्रोग्राम की पेशकश की जाती है। यूनिवर्सिटी प्रत्येक मेघावी स्टूडेंट के लिए 10 लाख रुपए तक की स्कॉलरशिप पेश कर रही है।


टेक्सिला अमेरिकन यूनिवर्सिटी के प्रेसिडेंट एस. पी. साजू भास्कर ने कहा, “चूंकि, भारतीय केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने 82 मेडिकल कॉलेजों को खारिज कर दिया है, देश भर में कम-से-कम 10,000 एमबीबीएस सीटें ब्लॉक्ड हो गई हैं। इस भारी अंतर को पूरा करने के लिए टीएयू द्वारा इच्छुक विद्यार्थियों को डॉक्टर बनने के उनके सपनों को पूरा करने का एक अवसर दिया जा रहा है। इसके लिए स्कॉलरशिप के माध्यम से उनकी मदद की जा रही है।”

भारत में मेडिकल कॉलेजों में सिर्फ 65000 एमबीबीएस सीटें ही हैं और हर साल लाखों स्टूडेंट्स मेडिकल प्रवेश परीक्षा में शामिल होते हैं। इसलिए, भारत में डॉक्टर बनने के इच्छुक अधिकतर विद्यार्थियों को एक मेडिकल सीट पाने में काफी मुश्किल होती है। इसलिए विदेशों में एमबीबीएस की पढ़ाई करने के इच्छुक कई भारतीय विद्यार्थियों के लिये एक पसंदीदा विकल्प है।

टीएयू, गयाना कैम्पस के वाइस चांसलर डॉ. आनंद ने कहा, “टीएयू की स्थापना वर्ष 2010 में की गई थी। यह भारत के खासतौर से तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, पंजाब, दिल्ली, गुजरात और पूर्वोत्तर राज्यों के विद्यार्थियों का एक पसंदीदा गंतव्य रहा है। इसके अलावा टीएयू में 40 देशों के स्टूडेंट्स पढ़ाई करते हैं, जोकि वाकई में इसे एक ग्लोबल यूनिवर्सिटी बनाते हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “विद्यार्थियों को अपने घर पर होने का अहसास कराने के लिए हमारी कैंटीन्स में गुयानीज, भारतीय, अमेरिकी और चाइनीज खाने परोसे जाते हैं।”

यूनिवर्सिटी में विद्यार्थियों का नामांकन साल में दो बार यानी कि मार्च और सितंबर में होता है। अधिकतर विद्यार्थियों के शैक्षणिक परिणाम जून में घोषित होते हैं और इसलिए वे नामांकन के लिए सितंबर सेशन को पसंद करते हैं। यूएसए में प्रैक्टिस को प्राथमिकता देने वाले स्टूडेंट्स के लिए टीएयू द्वारा यूएस मेडिकल लाइसेंसिंग एक्जाम के लिए प्रशिक्षण की पेशकश भी की जा रही है।

डॉ. आनंद ने कहा, “टेक्सिला अंतरराष्ट्रीय विद्यार्थियों के लिये विभिन्न अवसरों के द्वार खोलता है। हमारे कई भारतीय विद्यार्थी भारत वापस लौटते हैं और एमसीआइ के साथ पंजीकृत हुए हैं। यूएसए जाकर यूएसएमएलई करने के इच्छुक विद्यार्थी यूनाइटेड स्टेट्स में अपना आवास जारी रखते हैं, जबकि कुछ मेडिसिन की प्रैक्टिस करने के लिए कैरेबियाई देशों में ही रहते हैं।”

loading...
शेयर करें