102 वर्ष की महिला ने कोरोना को दिया मात, स्वस्थ होकर बोलीं- “वैक्सीन लीजिए”

कोरोना वायरस की वजह से आए दिन कई लोग अपनी जान गवा रहे हैं पर कुछ लोग ऐसे भी हैं जो कोरोना के सामने ना सिर्फ डट कर खड़े हैं, बल्कि कोरोना को मात भी दे रहे हैं।

गुजरात: कोरोना वायरस की वजह से आए दिन कई लोग अपनी जान गवा रहे हैं पर कुछ लोग ऐसे भी हैं जो कोरोना के सामने ना सिर्फ डट कर खड़े हैं, बल्कि कोरोना को मात भी दे रहे हैं। ऐसे ही एक किस्सा सामने आया है गुजरात के भावनानगर से।”जागो राखें साइयां मार सके ना कोई”, आपने अक्सर यह कहावत तो सुनी होगी। लेकिन अब आपको इसपर यकीन हो जाएगा।

102 साल की बुजुर्ग महिला ने कोरोना को दे दी मात

दरअसल, कोरोनावायरस महामारी के चलते जहां देशभर में लोगों की जान जा रही है, वहीं 102 साल की बुजुर्ग महिला ने कोरोना को मात दे दी है। बुजुर्ग महिला का अपना नाम सुशीला पाठक बताती है। वह कोरोनावायरस से संक्रमित थीं, लेकिन वे कोरोना को मात देकर घर वापस आ गई हैं। बुजुर्ग महिला सुशीला पाठक 10 दिन पहले ही अस्पताल से डिस्चार्ज हुई हैं। कोरोनावायरस की बीमारी से जंग जीतने पर बुजुर्ग महिला ने कहा, “वैक्सीन ले लो। ठीक हो जाएगा। मैं भी ठीक हो गई। भगवान आपको अच्छा रखेगा, वैक्सीन लीजिए।”

सुशीला ने जीता जंग

डॉक्टर सुजीत ने अपनी नानी के कोरोना से जंग जीतने पर कहा, “मेरी नानी सुशीला पाठक 102 साल की हैं। इन्हें कोविड हुआ था। 15 दिन हॉस्पिटल में थीं और अब कोविड को मात देकर घर आ गई हैं। कमज़ोर हैं, लेकिन सेहतमंद हो जाएंगी। डॉक्टर्स ने उनका बहुत अच्छा इलाज किया है।”

यह भी पढ़ें

उन्होंने आगे कहा, “हमने कभी हार नहीं मानी। हमने कभी ये नहीं सोचा कि ये ठीक नहीं होंगी और इसी सोच और नानी के मनोबल की वजह से यह ठीक हो गई हैं। मैं सबको कहना चाहता हूं कि कोविड से डरिए नहीं। डॉक्टर की सुनिए, वैक्सीन लीजिए और कोविड को मात दीजिए।”

Related Articles