IPL
IPL

इतने साल से फरार था हत्या का आरोपी, ऐसे झोंकता रहा पुलिस की आंखों में धूल

आरोपी पर थाना सरधना में 1988 में 302 हत्या का मुकदमा दर्ज है, जिसमें आरोपी को सुप्रीम कोर्ट से आजीवन कारावास की सजा सुनाई जा चुकी है।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है जिसमें एक कत्ल के मामले में सजायाफ्ता कैदी खुद को मृत घोषित करके आराम से घूम रहा था। कोतवाली पुलिस ने चेकिंग के दौरान 16 वर्षों से फरार चल रहे एक इनामी बदमाश को तमंचे के साथ गिरफ्तार किया है। आरोपी पर थाना सरधना में 1988 में 302 हत्या का मुकदमा दर्ज है, जिसमें आरोपी को सुप्रीम कोर्ट से आजीवन कारावास की सजा सुनाई जा चुकी है।

मामले पर जानकारी देते हुए SSP संतोष कुमार ने बताया कि पुलिस की टीम कुछ भागे हुए अपराधियों की तलाश में थी। इसी दौरान उन्हें आरोपी अनिराज सिंह निवासी गांव मदारपुर थाना सरधना पैदल स्याना की ओर से आता दिखाई दिया। पुलिस को देखकर आरोपी भागने की कोशिश करने लगा पर टीम ने घेराबंदी कर आरोपी को दबोच लिया। उसके पास से पुलिस ने अवैध असलहा भी बरामद किया है। साथ ही उसे न्यायिक हिरासत ( Judicial custody ) में जेल भेज दिया गया है।

जब पुलिस ने आरोपी से पूछताछ की तो पता चला कि उसे साल 1988 में हत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा मिली थी। उसने करीब ढाई साल जेल में बिताए थे। इसके बाद वह पैरोल पर छूटा और साल 2004 में छूटने के बाद वह फरार हो गया था। साथ ही आरोपी ने मेरठ में ही अपनी मृत्यु का प्रमाण पत्र भी तैयार करा लिया था। उसने इसके साथ ही अब अपने किसी अन्य नाम से फर्जी दस्तावेज भी तैयार करा लिए थे। फरारी के बाद मेरठ पुलिस ने उस पर 20 हजार रुपये के इनाम की घोषणा की थी।

यह भी पढ़ें: Bengal Election: ‘नल कहां है दीदी? जल कहां है दीदी? यहां खेतों में पानी क्यों नहीं है दीदी?’

Related Articles

Back to top button