सर्जिकल स्‍ट्राइक का सबसे बड़ा सबूत आया सामने, 636 दिनों बाद खत्‍म हुआ सस्‍पेंस

सर्जिकल स्‍ट्राइकनई दिल्ली। 29 सितंबर 2016 को पाकिस्तान के खिलाफ भारत द्वारा की गई सर्जिकल स्‍ट्राइक के बाद जमकर सियासत हुई थी। विपक्ष ने केंद्र सरकार पर राजनीति के लिए सेना के इस्‍तेमाल का आरोप लगाते हुए सर्जिकल स्‍ट्राइक के सबूत भी मांग लिए थे। अब इन्हीं सवालों के जवाब में एक वीडियो सामने आया है जो भारतीय सेना के शौर्य पर सवाल खड़ा करने वालों के लिए मुंहतोड़ जवाब है।

वीडियो सामने आने के बाद अब यह साफ हो गया है कि उड़ी में सेना के कैंप पर हुए आतंकी हमले के बाद भारतीय फौज ने आतंकियों के ठिकानों को तबाह करने के साथ ही पाकिस्तान को कड़ा संदेश दिया था। भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ 29 सितंबर 2016 को बड़ा एक्शन लेते हुए सर्जिकल स्ट्राइक की थी।

सर्जिकल स्ट्राइक के 636 दिनों के बाद अब एक वीडियो सामने आया है। इसमें साफ देखा जा सकता है कि भारत ने पाकिस्तान को उसी के घर में घुसकर सबक सिखाया था। सर्जिकल स्ट्राइक को दो टीमों ने अंजाम दिया था, इस ऑपरेशन में पाकिस्तान स्थित कई लॉन्चिंग पैड को ध्वस्त कर दिया गया था। भारत की तरफ से चार टारगेट बनाए गए थे, इस पूरे स्ट्राइक का वीडियो UAV & HEAD MOUNTED CAMS से कैद किया गया था।

टारगेट 3 में पाक टेरर कैंप दिखाई दे रहे हैं। UAV में ये सभी घटनाक्रम कैद हुई है। तीसरे टारगेट में साफतौर पर चार आतंकी दिखाई दे रहे हैं, जो अपने बंकरों के बाहर खड़े हैं। सभी आतंकी PoK से कुछ ही किलोमिटर दूर लॉन्चिंग पैड में थे। कैमरे में साफतौर पर एक धमाका होता हुआ दिखाई दे रहा है, जिसके बाद घुएं का गुबार उठता नजर आ रहा है।

धमाके के बाद तबाही का मंजर नजर आ रहा है। 18 सितंबर को पाकिस्तान की तरफ से हुए आतंकी हमले में भारत के 19 जवान शहीद हो गए थे, जिसके बाद भारत ने पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया था। भारत के द्वारा की गई सर्जिकल स्टाइक में पाकिस्तान के 38 आतंकवादी मारे गए थे।

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद दिल्ली के मुख्मंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक वीडियो रिलीज कर भारतीय सेना के शौर्य का सबूत मांगा था। केजरीवाल का यह वीडियो पाकिस्तानी मीडिया में छा गया था जो लगातार सर्जिकल स्ट्राइक होने की बात को नकार रहा था। सवाल के साथ-साथ यह शक भी जताया गया था कि राजनीतिक लाभ के लिए मोदी सरकार सेना का इस्तेमाल कर रही है।

Related Articles