दमोह जिले में रिश्ते का हुआ खून, फसल बटवारें के विवाद में बेटे ने की पिता की हत्या

लालच एक बुरी बला होती है जो खून के रिश्ते को भी खत्म कर देता है। वैसे ही मध्यप्रदेश के दमोह जिले के बटियागढ़ थाना क्षेत्र में एक पुत्र ने अपने पिता की हत्या कर दी।

दमोह: लालच एक बुरी बला होती है जो खून के रिश्ते को भी खत्म कर देती है। वैसे ही मध्यप्रदेश के दमोह जिले के बटियागढ़ थाना क्षेत्र में एक पुत्र ने अपने पिता की हत्या कर दी। यहां के इटवाहार गांव में सोमवार शाम फसल बंटवारे को लेकर पारिवारिक विवाद छिड़ गया जिसमे एक पुत्र ने अपने पिता की हत्या दी और अपने दो भाईयों पर हमला कर घायल कर दिया। इस घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची तो तीनो को घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया है जहां इलाज के दौरान इनके पिता की मौत हो गई। शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि जिले के बटियागढ़ के इटवाहार गांव में सोमवार दोपहर जनकू विश्वकर्मा (56) अपने तीनों पुत्रों दयाल, तुलसी, केशव एवं बहू राधाबाई, नाती गोवर्धन के साथ सिंचाई का काम कर रहा था। इसी बीच पिछले साल की फसल बंटवारे को लेकर इनके बीच विवाद शुरू हो गया। विवाद बढ़ने पर दयाल ने लाठियों से अपने पिता जनकू और भाई तुलसी एवं केशव पर हमला कर दिया तथा उन्हें गंभीर रूप से घायल कर।

ये भी पढ़े : तेजस्वी को लोकतंत्र और चुनावी प्रक्रिया पर नहीं है विश्वास: पीएम मोदी

इसके बाद आरोपी अपनी पत्नी राधाबाई और पुत्र गोवर्धन को लेकर फरार हो गया। पुलिस ने बताया कि घायलों को उपचार के लिए हटा के स्वास्थ्य केन्द्र ले जाया गया, जहाँ पर जनकू की मौत हो गई। जनकू के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। इस मामले में पुलिस ने आरोपी के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी है।

Related Articles

Back to top button