जीत मिले या हार साने की शरीरिक भाषा एक जैसी : क्रूस

0

म्यूनिख| जर्मनी के अंतर्राष्ट्रीय फुटबाल खिलाड़ी टॉनी क्रूस का मानना है कि उनके साथी खिलाड़ी और इंग्लिश क्लब मैनचेस्टर सिटी के फारवर्ड लेरॉय साने को और बेहतर होने की जरूरत है। सिटी के 22 वर्षीय खिलाड़ी साने को इस साल रूस में हुए फीफा विश्व कप के लिए जर्मनी की टीम में शामिल नहीं किया गया था।क्रूस ने कहा, “आप कभी-कभी महसूस करते हैं कि मैच में जीत मिले या हार साने की शरीरिक भाषा एक जैसी ही होती है। उनके पास विश्व का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी बनने के सारे गुण हैं लेकिन कभी-कभी आपको उन्हें बेहतर प्रदर्शन करने के लिए कहना होता है।”

क्रूस ने आगे कहा, “यह साफ है कि वह तेज हैं और बाएं पैर से बेहतरीन खेलते हैं लेकिन शायद कोच को राष्ट्रीय टीम के लिए किया उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं लगा। उन्होंने पिछले सीजन बेहतरीन प्रदर्शन किया लेकिन हाल में सिटी के कोच ने उन्हें मैदान से बाहर रखा, शायद वह भी साने से बेहतरन प्रदर्शन करने की उम्मीद कर रहे हैं।”

loading...
शेयर करें