नहर में कूदी महिला का शव सात दिन बाद बरामद, जानिए क्या था पूरा मामला

उत्तर प्रदेश: लखनऊ में गोर्साइंगंज के सिठौली कला निवासी रुचि सिंह (21) ने 22 जनवरी को पति संजय सिंह से झगड़े के बाद इंदिरा नहर में छलांग लगा दी थी। एक सप्ताहभर बाद महिला का शव बुधवार को हंसवा पुल के पास उतराता मिला। स्थानीय लोगों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव पोस्टमार्टम को भेजवाया।

महिला के पिता राम अवध सिंह ने मंगलवार रात को दामाद, बेटी के ससुर, सास पर दहेज हत्या का केस दर्ज कराया था। पुलिस ने पति व ससुर को गिरफ्तार कर लिया है। प्रभारी निरीक्षक धीरेंद्र उपाध्याय के मुताबिक, दो दिन पहले अचली खेड़ा बैराज को झुकाया गया था।इसके चलते पानी का बहाव काफी कम हो गया और बैराज में मवेशियाें के शव के बीच विवाहिता की लाश दब गई। हफ्ताभर बाद भी जब महिला का कुछ पता नहीं चला तो बुधवार सुबह करीब दस बजे बैराज को उठवा दिया। इसके बाद हंसवा पुल के पास रुचि का शव उतराने लगा। शव जैसे ही बाहर निकलवाया गया, परिवारीजन चीख उठे।

मृतका के पिता ने लगाए आरोप

वहीं, मृतका के पिता ने आरोप लगाया कि ससुरालीजन आए दिन दहेज में रुपये की मांग करते थे। इसे लेकर पति संजय सिंह, ससुर विजय सिंह व सास मिलकर उसे पीटते थे। आरोप है कि दामाद ने पिता व मां संग मिलकर बेटी की हत्या कर साक्ष्य मिटाने के लिए शव नहर में फेंक दिया।

पुलिस के मुताबिक, 22 जनवरी को झगड़े के बाद घर से निकली रुचि ने अपनी मां को फोन कर खुदकुशी करने की बात कही थी। इस पर मां ने पिता को भेजने की बात कहते हुए उसे ऐसा करने से मना किया और संजय को कॉल की, लेकिन तब तक रुचि मोबाइल बंद कर घर से निकल चुकी थी। एक हफ्ते से गोताखोर व एसडीआरएफ  की मदद से पुलिस रुचि को तलाश रही थी।

Related Articles