ठंड से बचने के लिए जलाए थे अलाव, चिंगारी से आग लगने पर घर बना श्मशान

परिवार ने घर के अंदर अलाव जलाया, जिसके बाद चिंगारी के कारण घर श्मशान बन गया।

बांदा: दिसंबर माह में इन दिनों कड़ाके की ठंड पड़ रही है और ठंड से बचने के लिए कई इलाको में लोग अलाव का सहारा लेते है। लेकिन ये किसी की मुसीबत का कारण बन सकता है इसका अंदाजा किसी को नहीं होता है। ऐसा ही मामला यूपी के बांदा में दिल दहला देने वाला देखने को मिला है, जिसे जानकर हर कोई सहम जाता है। मरका थाना क्षेत्र के दुबे पुरवा मऊ में ठंड से बचने के लिए एक परिवार ने घर के अंदर अलाव जला लिया। लेकिन उन्हें नहीं पता था इसकी चिंगारी के कारण घर श्मशान बन जाएगा। घर के अंदर जलाए अगए अलाव की चिंगारी ने पूरे घर को अपनी जद में ले लिया

जानकारी के मुताबिक, मरका थाना क्षेत्र के दुबे पुरवा मऊ का रहने वाला कल्लू राजस्थान के जयपुर में मजदूरी करता है। उसकी पत्नी 35 वर्षीय संगीता अपने तीन बच्चों नौ वर्षीय अंजली, छह वर्षीय बेटे आशीष और तीन साल की बेटी छोटी के साथ रहती थी। शनिवार को ठंड से बचने के लिए अलाव जलाया था। अलाव की चिंगारी ने पूरे घर को जलाकर खाक कर दिया, जिसमें मां समेत तीन बच्चों की जलकर मौत हो गई है।

ये भी पढ़ें : सुपरस्टार रजनीकांत की सेहत में सुधार, अस्पताल से हुए डिस्चार्ज

मलबे में तब्दील हुआ घर

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महेन्द्र प्रताप चौहान ने बताया कि दुबे का पुरवा मजरा निवासी कल्लू के घर में जब आग लगी तो ग्रामीणों ने आग की लपटें देखते ही शोर मचाया और पुलिस को सूचना मिली। आग लगने की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस और फायर ब्रिगेड आग बुझाने में जुट गई। बाद में दरवाजा तोड़ा गया तो पूरा घर मलबे में तब्दील हो चुका था इसमें रहने वाले मां समेत तीन बच्चों की जलकर मौत हो गई। हर तरफ केवल जला हुआ मलबा पड़ा हुआ था और धुआं उठ रहा था। पुलिस ने बताया कि घर में भूसा और लकड़ी की धन्नियां लगी होने की वजह से आग ने विकराल रूप ले लिया। इस विकराल आग से किसी को बाहर निकलने तक का मौका नहीं मिला।

Related Articles