वैज्ञानिकों का दावा, इंसानों से तेज दौड़ेगा ‘अल्फाजीरो’ का दिमाग

0

आज विज्ञान ने दुनिया में इतनी तरक्की कर ली है, जिसे सोचा भी नहीं जा सकता था। वैज्ञानिकों ने ऐसे-ऐसे रोबोट बना लिए हैं जो इंसानों से किसी काम में पीछे नहीं। हाल ही में हुए एक एक्सपेरेमेंट में वैज्ञानिकों ने एक ऐसे रोबोट का अविष्कार किया है जिसने अपनी बुद्धिमता से शतरंज के खेल में इंसानों को भी पीछे छोड़ दिया है। इस कंप्यूटर प्रोग्राम का नाम ‘अल्फाजीरो’ है।

इस मशीन ने शतरंज के खेल में ऐसी चाल चली जो पिछले 1500 साल में किसी ने नहीं चली थी। कहा जा रहा है कि पिछले 1500 सालों में किसी भी इंसानी दिमाग ने चेक बोर्ड में नहीं सिखा होगा। एआई के इस कंप्यूटर प्रोग्राम ने साबित कर दिया कि वह विश्व का सर्वश्रेष्ठ चेस चैंपियन है। यही नहीं इस नए प्रोग्राम ने पुराने विजेताओं को कहीं दूर पीछे छोड़ दिया है।

मशीनों के दौर में अब ऐसे निर्माण किए जाने लगे हैं जहां इंसानों की बुद्धिमता की जरूरत वाले कामों को भी मशीनों से कराया जाए। गौरतलब हो कि इसी साल ऑक्सफॉर्ड अकादमी के एक प्रोफेसर मिशेल वुलड्रिज ने चेताया था कि जल्द ही ऐसा समय आने वाला है जब मशीने इतनी जटिल हो जाएंगी कि इंजीनियर खुद नहीं समझ पाएंगे कि वे आगे कैसे काम करेंगी।

जानिए क्या है ‘अल्फाजीरो’

‘अल्फाजीरो’ एक यूके कंपनी के दिमाग की उपज है। यह प्रोग्राम लंदन में जन्मा है। इसका नाम डीपमाइंड है। ये कंप्यूटर प्रोग्राम बनाता है जो अपने ही लिए काम करते हैं। ‘अल्फाजीरो’ को एल्गोरिदम भी कहते हैं। ये एक तरह के गणित के निर्देश हैं जो कोई भी सवाल का जवाब देते हैं।

loading...
शेयर करें