विकास प्राधिकरण द्वारा कराया जा रहा निर्माण, योजनाओं में अधूरे कार्यों का होगा विकास

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार के आदेशानुसार तथा प्रमुख सचिव आवास एवं शहरी नियोजन विभाग दीपक कुमार के मार्गदर्शन से विकास प्राधिकरणों द्वारा प्राथमिकता से विकास एवं निर्माण के कार्य कराये जा रहे है। इसी क्रम में हापुड़-पिलखुवा विकास प्राधिकरण द्वारा कराये जा रहे विकास एवं निर्माण कार्यों के अन्तर्गत आनन्द विहार आवासीय योजना, प्रीत विहार आवासीय योजना द्वितीय तथा विस्तार, ट्रान्सपोर्ट नगर योजना, टैक्सटाईल सेन्टर आदि योजनाएं क्रियान्वित की गयी है।

इन योजनाओं के विकास कार्य सम्पादित किये जाने के उपरान्त इनका अनुरक्षण प्राधिकरण द्वारा किया जा रहा है, जिसमें टेक्सटाइल सेन्टर योजना में सी0ई0पी0टी0का संचालन प्रमुख है। योजनाओं में अधूरे कार्यों को पूर्ण कराया गया है। प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के अन्तर्गत हापुड़-पिलखुवा विकास प्राधिकरण द्वारा अपने स्तर से दो योजनाएं-आनन्द विहार आवासीय योजना तथा हिण्डालपुर आवासीय योजना संचालित की गयी है।

आनन्द विहार आवासीय योजना

आनन्द विहार आवासीय योजना में चार मंजिले 408 ई0डब्लू0एस0 भवनों का निर्माण कार्य प्रगति पर है। शासन द्वारा प्रथम व द्वितीय किश्त प्राप्त हो गयी है, जिसका उपयोग करते हुए प्राधिकरण द्वारा 80 प्रतिशत कार्य पूर्ण किया जा चुका है। सभी भवनों का आवंटन भी किया जा चुका है। राजस्व ग्राम हिण्डालपुर तहसील धौलाना, पिलखुवा में चार मंजिले 264 ई0डब्लू0एस0 भवनों का निर्माण कार्य प्रगति पर है।

पर्यावरण सुधार योजना

वृक्षारोपण तथा पर्यावरण सुधार योजना के अन्तर्गत शासन द्वारा दिये गये लक्ष्यों के सापेक्ष प्राधिकरण द्वारा शतप्रतिशत उपलब्धि प्राप्त की गयी है। प्राधिकरण द्वारा अपनी आवासीय योजनाओं में चिन्हित ऐसी भूमि जिसका अर्जन नही हुआ है, के अर्जन हेतु लैण्ड पुलिंग पालिसी के अनुसार क्रय किये जाने का प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है। इसके अलावा लैण्ड बैंक बढ़ाने के लिए विकास क्षेत्र के अन्तर्गत वर्ष 2031 के लिए प्रस्तावित महायोजना के क्रम में लैण्ड पूलिंग पॉलिसी के अनुसार भूमि क्रय किये जाने का सर्वेक्षण का कार्य प्रगति पर है।

विकसित टैक्सटाईल सेन्टर

इसके अतिरिक्त हापुड़-पिलखुवा विकास प्राधिकरण द्वारा विकसित टैक्सटाईल सेन्टर योजना में उद्यमों के द्वारा छोड़े गये जल के शोधन हेतु स्थापित सी0ई0टी0पी0 का संचालन प्राधिकरण के द्वारा विगत कई वर्षों से अपने संशाधनों से कराया जा रहा था, जिसका अपग्रेडेशन न होने के कारण राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन नई दिल्ली के द्वारा सी0ई0टी0पी0 तथा योजना में स्थापित उद्यमों का संचालन बन्द करा दिया गया था। प्राधिकरण के द्वारा विशेष प्रयास कर सी0ई0टी0पी0 के संचालन उद्यमियों का एस0पी0वी0 गठित कराकर सी0ई0टी0पी0,एस0पी0वी0 को हैण्डओवर कर दिया गया है।

राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन

राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के मानकों के अनुरूप अपग्रेडेशन भी कराया जा रहा है। प्राधिकरण द्वारा आनन्द विहार आवासीय योजना में फायर स्टेशन के लिए 7800 वर्गमीटर भूमि का कब्जा अग्नि शमन विभाग को दिया गया। प्राधिकरण के कार्य-कलापों में पारदर्शिता के दृष्टिगत सभी महत्वपूर्ण सूचनाओं को प्राधिकरण की वेबसाइट, टविटर एवं मीडिया के माध्यम से पब्लिक डोमेन में रखा गया ।

Related Articles