बहू ने उतारा बल्ब तो गुस्से में ससुर ने किया ऐसा काम …

नई दिल्ली: दिल्ली के पहाड़गंज इलाके में एक दिल को देहला देनी वाली बात सामने आयी, एक बुजुर्ग भगत राम (65) ने बल्ब बदलने और साथ में डिनर करने की जिद के बाद हुए झगड़े में सोमवार रात अपनी बहू नीरज (33) की चाकू से गला रेतकर हत्या कर दी। जिसके के बात पुलिस को वारदात की जानकारी दी। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर शव के लिए भेजा।पुलिस के मुताबिक, नीरज अपने 10 साल के बेटे के साथ सास-ससुर के पास रहती थी, जबकि पति पिछले करीब 7 साल से गुरुग्राम में रहता है। वह वहां एक निजी पावर कंपनी में काम करता है। दोनों के बीच तलाक का मुकदमा चल रहा था। इसी कारण वह बामुश्किल कभी घर आता था। नीरज घर में अक्सर बल्ब निकाल देती थी।इसके कारण दंपती को अंधेरे में काम करना पड़ता था। सोमवार को नीरज ने ससुर का लगाया हुआ बल्ब निकाल दिया तो दोनों के बीच विवाद शुरू हो गया। विवाद कुछ शांत हुआ तो भगत राम डिनर खाने लगा। इसी दौरान बहू नीरज पहुंची और उसके साथ डिनर खाने की जिद करने लगी। ससुर ने इनकार कर दिया। भगत राम के मुताबिक, नीरज के हाथ में किचन में इस्तेमाल होने वाला चाकू था।

किसी अनहोनी को टालने की नीयत से उसने चाकू छीनने का प्रयास किया तो दोनों के बीच हाथापाई शुरू हो गई। इसी दौरान आवेश में भगत राम ने नीरज का गला रेत दिया। इसके बाद नीरज को अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। उधर, नीरज के परिजनों ने सास-ससुर पर बेटी को परेशान करने के आरोप लगाए हैं।

शुरुआती जांच के बाद पुलिस ने बताया कि भगत राम के बेटे दर्शन की नीरज से 12 साल पहले शादी हुई थी। वर्ष 2012 के बाद दर्शन और नीरज के रिश्ते खराब होने लगे। मामला कोर्ट में गया। अदालत ने दर्शन को पत्नी को गुजारा भत्ता देने का आदेश दिया। नीरज पति के खिलाफ घरेलू हिंसा की भी शिकायत कर चुकी थी।भगतराम के मुताबिक, नीरज पूरी प्रॉपर्टी को उसके नाम करने के लिए कहती थी। वह उन्हें घर से निकालने की धमकी भी देती थी। पुलिस ने भगत राम के कब्जे से वारदात में इस्तेमाल चाकू बरामद कर लिया है।

Related Articles